Advertisement
Advertisement
Advertisement

नवी मुंबई के अंशुमन ने दुनिया में सबसे कम उम्र में पार किया नाॅॅर्थ चैनल

खुले समुद्र में तैराक अंशुमन झिंगरन नॉर्थ चैनल पार करने वाले दुनिया के सबसे कम उम्र के व्यक्ति बन गए।

Advertisement
IANS News
By IANS News July 19, 2023 • 15:52 PM
Navi Mumbai boy Anshuman becomes youngest person in World to cross North Channel
Navi Mumbai boy Anshuman becomes youngest person in World to cross North Channel (Image Source: IANS)

Navi Mumbai: खुले समुद्र में तैराक अंशुमन झिंगरन नॉर्थ चैनल पार करने वाले दुनिया के सबसे कम उम्र के व्यक्ति बन गए।

इस उपलब्धि के साथ, 18 वर्षीय अंशुमन गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड्स में जगह पाने के लिए योग्य हो गए हैं। वह 1947 के बाद से चैनल पार करने वाले केवल 114वें व्यक्ति हैं।

स्कॉटलैंड और उत्तरी आयरलैंड के बीच स्थित नॉर्थ चैनल को अपने ठंडे तापमान, बेहद खतरनाक जेलीफ़िश की उपस्थिति और सभी तरह से प्रतिस्पर्धात्मक ज्वार व धाराओं के कारण ओशन सेवन स्विम्स में सबसे कठिन माना जाता है।

इतनी कम उम्र में अंशुमन का इस कठिन प्रयास को सफलतापूर्वक पूरा करना उनकी क्षमताओं और अडिग भावना का प्रमाण है।

नवी मुंबई के संदीप और किरण झिंगरन के बेटे, अंशुमन वाशी के करमवीर भाऊराव पाटिल कॉलेज में 12वीं कक्षा के कॉमर्स स्ट्रीम के छात्र हैं। उन्हें छत्रपति पुरस्कार विजेता कोच गोकुल कामथ के तहत फादर एग्नेल स्पोर्ट सेंटर में प्रशिक्षित किया गया है।

अंशुुुुमान ने इस दुर्लभ उपलब्धि को हासिल करने में सक्षम होने के लिए अपने कोच कामथ, उनकी सहायक टीम और उनके परिवार के प्रति आभार व्यक्त किया।

उसने कहा, “हां, शुरुआत में यह बहुत मुश्किल लग रहा था। लेकिन मेरे गुरु, मेरे कोच गोकुल कामथ और साल मिन्टी-ग्रेवेट (एसएमजी-एमबीई) के तहत मुझे मिले कठिन प्रशिक्षण के लिए धन्यवाद, मैं सभी चुनौतियों पर काबू पाने में सक्षम था। मैं अपने माता-पिता को भी मुझ पर अटूट विश्वास के लिए धन्यवाद देना चाहता हूं। और निश्चित रूप से, आप एक समर्पित सहायता टीम के बिना कभी भी ऐसी चुनौतियों का सामना नहीं कर सकते, इसलिए मैं उनका बहुत आभारी हूं।''

युवा अंशुमन ने यह भी कहा कि अगले वर्ष में उनका लक्ष्य ओशन सेवन स्विम्स के शेष भाग को पूरा करना है।

Also Read: Major League Cricket 2023 Schedule

अंशुमन की उपलब्धि ने तैराकी समुदाय के भीतर वैश्विक ध्यान और प्रशंसा अर्जित की है। उनकी उपलब्धि इस बात का ज्वलंत उदाहरण है कि दृढ़ता, अनुशासन और अटूट दृढ़ संकल्प के माध्यम से क्या हासिल किया जा सकता है।


Advertisement
TAGS
Advertisement
Advertisement
Advertisement