Advertisement
Advertisement
Advertisement

मोटोजीपी के लिए यमुना अथॉरिटी खर्च कर रहा है 8.15 करोड़ रुपए, सीसीटीवी, रोड और लाइटिंग का हो रहा है काम

उत्तर प्रदेश के ग्रेटर नोएडा की दुनियाभर में नई पहचान बनने वाली है। यहां अंतरराष्ट्रीय स्तर का मोटोजीपी का आयोजन यमुना अथॉरिटी के अंतर्गत आने वाले बुद्ध इंटरनेशनल सर्किट में करवाया जा रहा है।

Advertisement
IANS News
By IANS News September 11, 2023 • 18:31 PM
मोटोजीपी के लिए यमुना अथॉरिटी खर्च कर रहा है 8.15 करोड़ रुपए, सीसीटीवी, रोड और लाइटिंग का हो रहा है
मोटोजीपी के लिए यमुना अथॉरिटी खर्च कर रहा है 8.15 करोड़ रुपए, सीसीटीवी, रोड और लाइटिंग का हो रहा है (Image Source: IANS)

उत्तर प्रदेश के ग्रेटर नोएडा की दुनियाभर में नई पहचान बनने वाली है। यहां अंतरराष्ट्रीय स्तर का मोटोजीपी का आयोजन यमुना अथॉरिटी के अंतर्गत आने वाले बुद्ध इंटरनेशनल सर्किट में करवाया जा रहा है।

मोटोजीपी का आयोजन 22 से 24 सितंबर के बीच होगा। इस आयोजन में विदेश के कई खिलाड़ी शामिल होंगे। मोटोजीपी के लिए टिकट बुकिंग शुरू हो चुकी है। शुरुआती तौर पर बताया जा रहा है कि करीब 30,000 टिकट बुक भी हो चुके हैं।

इस आयोजन को सफल बनाने के लिए अथॉरिटी लगातार काम कर रही है। इसके लिए 8.15 करोड रुपए खर्च किए जा रहे हैं। आयोजन में देश-विदेश के हजारों लोग हिस्सा लेंगे और दूर-दूर से लोग इसे देखने पहुंचेंगे।

आयोजन के बाद ग्रेटर नोएडा के बुद्ध इंटरनेशनल सर्किट की पहचान अंतर्राष्ट्रीय पटल पर अलग ही होगी।

यमुना अथॉरिटी के सीईओ डॉ. अरुणवीर सिंह ने जानकारी दी, मोटोजीपी के आयोजन में तीनों अथॉरिटी को अलग-अलग फंड देने को कहा गया था। जिसमें यमुना अथॉरिटी के हिस्से में 3.50 करोड़ रुपए आए थे।

उसके बाद यमुना अथॉरिटी ने अभी तक अपने पास से करीब 4.50 रुपए से ज्यादा और खर्च किए हैं। जिनमें चार अलग-अलग मार्गों को आयोजन स्थल से कनेक्ट करने का काम शामिल है।

इसके साथ-साथ हॉर्टिकल्चर को लेकर 1.3 करोड रुपए खर्च किए जाएंगे। 10 स्थानों को चिन्हित किया गया है, जहां पर फूलों से सजावट के साथ बड़े-बड़े गेट बनाए जाएंगे। जो आने-जाने वालों के लिए मुख्य आकर्षण का केंद्र रहेंगे। इसके साथ 125 सीसीटीवी, 55 लाइट भी लगाई जा रही है।

Also Read: Live Score

यहां पर करीब 1.25 लाख लोगों के बैठने की क्षमता है। पुलिस और जिला प्रशासन के साथ यमुना अथॉरिटी की भी पूरी जिम्मेदारी है कि आयोजन को सुरक्षित और सकुशल तरीके से आयोजित करवाया जाए इसीलिए कोई कोर-कसर नहीं छोड़ी जा रही है।


Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement