"
X close
X close

वर्ल्ड कप फ्लैशबैक: एक नजर 1992 क्रिकेट वर्ल्ड कप पर

By Sahir Usman
May 04, 2019 • 16:42 PM

साल 1992 में वर्ल्ड कप का पांचवा संस्करण खेला गया। वर्ल्ड कप का यह संस्करण कई मायनों में खास रहा। इस वर्ल्ड कप में पहली बार हुआ जब खिलाड़ी रंगीन कपड़ों में नजर आए। पाकिस्तान फाइनल में इंग्लैंड को मात देकर पहली बार वर्ल्ड चैंपियन बनी। 

पहली बार वर्ल्ड कप में सफेद गेंद और "ब्लैक साइट स्क्रीन" का इस्तेमाल हुआ। इस वर्ल्ड कप में पहली बार डे-नाइट मैच खेले गए। 

Also Read: गौतम गंभीर ने अफरीदी को लगाई फटकार, मनोचिकित्सक के पास जाने की दी सलाह

इस बार टूर्नामेंट में कुल 9 टीमों ने हिस्सा लिया जिसकी वजह से फॉर्मेट में भी बदलाव देखने को मिला। 'ग्रुप स्टेज" मैच की जगह टीमों के बीच "राउंड रोबिन" मुकाबलें हुए। इन टीमों में भारत, ऑस्ट्रेलिया, इंग्लैंड, न्यूज़ीलैंड, श्रीलंका, वेस्टइंडीज, पाकिस्तान, जिम्बाब्वे तथा पहली बार साउथ अफ्रीका की टीम भी शामिल हुई।

राउंड रोबिन मुकाबलों में सभी टीमों के बीच कड़ी टक्कर के बाद न्यूज़ीलैंड, इंग्लैंड, साउथ अफ्रीका तथा पाकिस्तान ने सेमीफाइनल में अपनी जगह बनाई। 

पहला सेमीफाइनल - न्यूज़ीलैंड बनाम पाकिस्तान

पहला सेमीफाइनल मुकाबला पाकिस्तान और न्यूज़ीलैंड के बीच ऑकलैंड के मैदान पर खेला गया। न्यूज़ीलैंड की टीम ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 50 ओवरों में 7 विकेट के नुकसान पर 262 रनों का मजबूत स्कोर खड़ा किया। 263 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरी पाकिस्तान की टीम ने 49 ओवरों में 6 विकेट के नुकसान पर लक्ष्य को हासिल किया।

पाकिस्तान की तरफ से इंजमाम-उल-हक को उनकी 37 गेंदों में 60 रनों रनों की तेज -तर्रार पारी के लिए "मैन ऑफ द मैच का" अवॉर्ड मिला।


Read More

क्रिकेट समाचार टेलीग्राम पर भी उपलब्ध है। यहां क्लिक करके आप सब्सक्राइब कर सकते हैं।