X close
X close

क्या टीम इंडिया की क्षमता उसकी महत्वाकांक्षा से मेल खाती हैं?

एफआईएच पुरुष हॉकी विश्व कप के 15वें सीजन के शुरू होने में सिर्फ एक सप्ताह बाकी है और भारतीय टीम अपनी तैयारियों को अंतिम रूप देने के लिए पूरे जोर-शोर से अभ्यास कर रही है।

IANS News
By IANS News January 08, 2023 • 13:18 PM
Does Team India's abilities match its ambition? A SWOT analysis
Image Source: IANS

एफआईएच पुरुष हॉकी विश्व कप के 15वें सीजन के शुरू होने में सिर्फ एक सप्ताह बाकी है और भारतीय टीम अपनी तैयारियों को अंतिम रूप देने के लिए पूरे जोर-शोर से अभ्यास कर रही है।

एफआईएच विश्व कप से पहले भारतीय हॉकी टीम का विश्लेषण इस प्रकार है

ताकत :

अपने देश में खेलते हुए और ओडिशा में प्रशंसकों की भीड़ के साथ भारतीय खिलाड़ी किसी भी टीम के लिए एक मजबूत प्रतिद्वंद्वी होंगे। वे कलिंग स्टेडियम से काफी परिचित हैं और राउरकेला का बिरसा मुंडा स्टेडियम नया है, खिलाड़ी वर्तमान में राउरकेला में डेरा डाले हुए हैं, जो परिस्थितियों का अंदाजा लगा रहे हैं।

कोच ग्राहम रीड ने पिछले कुछ वर्षों में एक जुझारू यूनिट को इकट्ठा किया है, जिसमें 100 से अधिक मैच खेलने वाले आठ खिलाड़ियों के साथ अनुभवी खिलाड़ियों का एक दल है।

पूर्व कप्तान मनप्रीत सिंह टीम में एक मजबूत धूरी हैं, जो 314 मैचों में सबसे अधिक मैच खेलने वाले खिलाड़ी हैं, जबकि गोलकीपर पी.आर. श्रीजेश ने 274 मैच खेले हैं। हरमनप्रीत सिंह के रूप में टीम के पास विश्व स्तरीय ड्रैग-फ्लिकर है, जिसे उन्हें हाल की सफलता के लिए एफआईएच प्लेयर ऑफ द ईयर नामित किया गया है।

कमजोरी :

अगर देश में और भारी भीड़ के सामने खेलने से खिलाड़ियों का मनोबल बढ़ता है, तो इसका नकारात्मक प्रभाव भी पड़ सकता है। खिलाड़ियों पर दबाव पड़ने और उनके खेल को प्रभावित करने के साथ बड़ी उम्मीदें भी प्रतिकूल असर डाल सकती हैं।

टीम का डिफेंस थोड़ा कमजोर है और भारतीय टीम में लगातार दबाव के आगे झुककर देर से गोल करने की प्रवृत्ति है। हरमनप्रीत सिंह एक बेहतरीन ड्रैग फ्लिकर हैं, लेकिन अमित रोहिदास और वरुण कुमार जैसे अन्य पेनल्टी कॉर्नर विशेषज्ञ कंसिस्टेंट नहीं हैं। अगर हरमनप्रीत अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाए तो भारत गोल करने के लिए संघर्ष कर सकता है।

टीम की आक्रामक खेल शैली इसकी ताकत है, लेकिन खिलाड़ी दबाव में अपना संतुलन खो देते हैं और इस तरह गोल गंवा देते हैं। रीड को अपने खिलाड़ियों को मजबूत बनाने के लिए लगातार मानसिक ढांचे पर काम करने की जरूरत है।

अवसर :

खिलाड़ियों के लिए विश्व कप जीतना पदक के सूखे को समाप्त करने का सबसे बड़ा मौका है। स्पेन, इंग्लैंड और वेल्स के साथ ग्रुप डी में रखा गया भारत 13 जनवरी को स्पेन के खिलाफ अपने अभियान की शुरूआत करेगा।

भारतीय टीम के लिए अपनी तैयारियों को परखने का यह अच्छा मौका होगा। हालांकि भारत ने हाल ही में प्रो लीग में स्पेनियों से बेहतर प्रदर्शन किया है जो कि विश्व कप में अच्छा प्रदर्शन करने के लिए एक प्रेरणा है और स्पेनिश खिलाड़ी भी पहला मैच जीतने के लिए अपना जोर लगाएंगे।

डर :

भारतीय टीम के लिए अपनी तैयारियों को परखने का यह अच्छा मौका होगा। हालांकि भारत ने हाल ही में प्रो लीग में स्पेनियों से बेहतर प्रदर्शन किया है जो कि विश्व कप में अच्छा प्रदर्शन करने के लिए एक प्रेरणा है और स्पेनिश खिलाड़ी भी पहला मैच जीतने के लिए अपना जोर लगाएंगे।

Also Read: SA20, 2023 - Squads & Schedule

खिलाड़ी युवा और महत्वाकांक्षी हैं। उन्होंने अच्छी तैयारी की है और मैदान में जाने के लिए व्याकुल हैं। विरोधी काफी मजबूत हैं और किसी भी प्रतिद्वंद्वी को हल्के में नहीं लिया जा सकता।

This story has not been edited by Cricketnmore staff and is auto-generated from a syndicated feed


TAGS