स्टीव स्मिथ ने रच दिया इतिहास, एशेज टेस्ट सीरीज में ऐसा कर महान ड्रॉन ब्रैडमैन की लिस्ट में हुए शामिल
X close
X close
टॉप 10 क्रिकेट की ख़बरे

स्टीव स्मिथ ने रच दिया इतिहास, एशेज टेस्ट सीरीज में ऐसा कर महान डॉन ब्रैडमैन की लिस्ट में हुए शामिल

by Vishal Bhagat Dec 16, 2017 • 17:17 PM

पर्थ, 16 दिसम्बर | कप्तान स्टीव स्मिथ (नाबाद 229) के दोहरे शतक और हरफनमौला खिलाड़ी मिशेल मार्श (नाबाद 181) की बेहतरीन पारियों के दम पर आस्ट्रेलिया ने इंग्लैंड के खिलाफ एशेज सीरीज के तीसरे टेस्ट मैच के तीसरे तीसरे दिन शनिवार का अंत चार विकेट के नुकसान पर 549 रनों के साथ किया है। इसी के साथ उसने इंग्लैंड पर 146 रनों की बढ़त ले ली है। इंग्लैंड ने अपनी पहली पारी में 403 रन बनाए थे। 

हार्दिक पांड्या की भाभी पंखुड़ी शर्मा है बेहद खूबसूरत, जरूर देखें 

मिशेल और स्मिथ के बीच अभी तक पांचवें विकेट के लिए 301 रनों की साझेदारी हो चुकी है। स्मिथ ने अपनी इसी पारी के साथ इस साल टेस्ट क्रिकेट में 1000 रन पूरे कर लिए हैं। वह लगातार चार साल एक साल में एक हजार रन पूरे करने वाले दूसरे खिलाड़ी हैं। उनसे पहले उनके हमवतन मैथ्यू हेडन ने 2001-05 के बीच हर साल टेस्ट में एक हजार रन पूरे किए थे। 

आस्ट्रेलिया ने दिन की शुरुआत तीन विकेट के नुकसान पर 203 रनों के साथ की थी। उसने तीसरे दिन शॉर्न मार्श के रूप में एकमात्र विकेट खोया। वह अपने खाते में 21 रन और जोड़कर 28 के निजी स्कोर पर आउट हो गए। मोइन अली ने उन्हें कप्तान जोए रूट के हाथों कैच कराया। 

लग रहा था कि इंग्लैंड मेजबानों पर हावी हो जाएगी, लेकिन शॉर्न के भाई मिशेल ने क्रिज पर कदम रखा और स्मिथ के साथ मिलकर आस्ट्रेलिया को न सिर्फ संकट से उबारा बल्कि उसे इंग्लैंड पर बढ़त भी दिला दी। हार्दिक पांड्या की भाभी पंखुड़ी शर्मा है बेहद खूबसूरत, जरूर देखें 

स्मिथ ने दूसरे दिन अपने शतक से आठ रन दूर रहकर नाबाद लौटे थे। उन्होंने तीसरे दिन अपना शतक पूरा किया। यह उनके करियर का 22 टेस्ट शतक है जिसके लिए उन्होंने 108 पारियां ली हैं। वह सबसे तेजी से 22 शतक पूरे करने वाले दुनिया के तीसरे बल्लेबाज हैं। आस्ट्रेलिया के ही डॉन ब्रेडमैन ने 58 पारियों में 22 शतक लगाए थे तो वहीं सुनील गावस्कर ने 101 पारियों में 22 शतक पूरे किए थे।  स्मिथ ने अभी तक अपनी पारी में 390 गेंदें खेलीं हैं और 28 चौकों के साथ एक छक्का लगाया है। वहीं मिशेल ने 234 गेंदों का सामना किया है और 29 बार गेंद को सीमा रेखा के पार पहुंचाया है।