मुंबई इंडियंस के खिलाफ हार के बाद भी इस तरह से केकेआर की टीम पहुंचेगी प्लेऑफ में
X close
X close
टॉप 10 क्रिकेट की ख़बरे

मुंबई इंडियंस के खिलाफ हार के बाद भी इस तरह से केकेआर की टीम पहुंचेगी प्लेऑफ में

by Vishal Bhagat May 10, 2018 • 19:21 PM

10 मई। तीन दिन के अंदर मुंबई इंडियंस के हाथों लगातार दो हार झेलने के बावजूद कोलकाता नाइट राइडर्स के कप्तान दिनेश कार्तिक का मानना है कि उनकी टीम के पास अब भी इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के 11वें संस्करण में प्लेआफ में पहुंचने का मौका है। कोलकाता को छह मई को मुंबई इंडियंस के हाथों उसके घर में 13 रन से और फिर नौ मई को मुंबई इंडियंस से ही अपने घर में 102 रनों से करारी हार का सामना करना पड़ा है।  क्रिकेटर दिनेश कार्तिक की वाइफ दीपिका हैं बहुत खूबसूरत, देखें PICS

इस हार की बदौलत कोलकाता पांचवें स्थान पर खिसक गई हैं। दो बार की चैंपियन कोलकाता को अगर प्लेआफ में अपनी जगह बनानी है तो उसे बाकी बचे अपने तीनों मैच जीतने होंगे। टीम को अब अपना अगला मुकाबला किंग्स इलेवन पंजाब से उसके बाद राजस्थान रॉयल्स से और फिर सनराइजर्स हैदराबाद से खेलना है। 

कार्तिक ने मैच के बाद संवाददाताओं से कहा, " हार से मैं बहुत निराश हूं लेकिन अभी तीन मैच बाकी है और हम एक समय पर एक मैच पर ध्यान देंगे। यदि हम जीतते हैं तो हमारे पास प्लेआफ में पहुंचने का मौका है। मैं इसमें विश्वास करता हूं और चाहता हूं कि मेरे टीम साथी भी इसमें विश्वास करें।" 

मौजूदा सीजन में कोलकता की यह सबसे बड़ी हार है जिसके कारण अचानक से उसका रन रेट गिर कर -0.359 पर आ गया है। 

कप्तान ने कहा, "इस मैच के बाद, हमारे रन रेट को गहरा झटका लगा है। यदि हम तीन मैच अच्छे से जीतते हैं तो यह ऊपर जाएगा।" 

उन्होंने कहा कि मध्य ओवरों में इशान किशन द्वारा 21 गेंदों पर खेली गई 62 रन की लाजवाब पारी ने कोलकाता से मैच छीन लिया। 

कार्तिक ने कहा, "उन्होंने रन रेट को बदला और कुछ अच्छे शॉट खेले। हमने ऐसी जगह पर गेंदबाजी की जिससे उनको आउट किया जा सके लेकिन उस समय वह गेंदबाजों पर हावी रहे। हम दबाव में थे और कुछ खराब शॉट भी खेले। इसके अलावा पावरप्ले में हमने कुछ ज्यादा ही विकेट गंवा दिए, जिससे मैच मुश्किल होता चला गया।" 

कोलकाता के लिए कुलदीप यादव ने तीन ओवर में 43 रन लुटा दिए जिससे मैच मुंबई के पक्ष में चल गया। 

कार्तिक ने इस पर कहा, " वह एक ऐसे गेंदबाज हैं जो मध्य ओवरों में काफी नियंत्रण रखते हैं और जब वह रन देते हैं तो यह काफी मुश्किल होता है। लेकिन क्रिकेट में यह सब होता रहता है।" 

उन्होंने कहा कि विकेट बल्लेबाजी के लिए अच्छी थी और 190 के लक्ष्य को हासिल किया जा सकता था। 

कप्तान ने कहा, "विकेट अच्छी थी, 190 के स्कोर को हासिल किया जा सकता था लेकिन 20 रन ज्यादा होने के कारण इसका मैच में काफी अंतर पड़ा।"