X close
X close
Indibet

AUS vs IND : टीम इंडिया की शर्मनाक हार से लगी रिकॉर्डस की झड़ी, 143 साल में दूसरी बार हुआ ऐसा

Shubham Sharma
By Shubham Sharma
December 19, 2020 • 13:47 PM View: 408

पहली पारी में 244 और दूसरी पारी में 36 रन, ये किसी बल्लेबाज का व्यक्तिगत स्कोर नहीं बल्कि टीम इंडिया का स्कोरकार्ड है। जी हां, एडिलेड में खेले गए पहले टेस्ट मैच में टीम इंडिया ने तीसरे दिन के पहले सैशन में इस मैच को जीतने के सभी दरवाजे बंद कर दिए। टीम इंडिया के लिए दूसरी पारी में ‘तू चल, मैं आया’ की कहावत बिल्कुल सही बैठती है। 

कोई भी बल्लेबाज दहाई का आंकड़ा नहीं छू पाया और टीम पहली पारी में 53 रनों की बढ़त हासिल करने के बावजूद ऑस्ट्रेलिया के सामने सिर्फ 90 रनों का लक्ष्य रख सकी। अगर आप भारत का स्कोरकार्ड देखेंगे, तो आपको ये स्कोरकार्ड कम और ओटीपी (OTP) ज्यादा लगेगा। इस मैच में टीम इंडिया ने करोड़ों भारतीयों की उम्मीदों पर पानी फेरते हुए कई शर्मसार कर देने वाले रिकॉर्ड अपने नाम कर लिए। आइए जानते हैं कि वो कौन से रिकॉर्ड हैं, जो इस पिंक बॉल टेस्ट में बने।

Trending


दोनों पारियों में फ्लॉप होने के बावजूद मयंक अग्रवाल ने बनाया ये रिकॉर्ड

मयंक अग्रवाल भारत के लिए सबसे तेज 1000 टेस्ट रन पूरे करने वाले तीसरे बल्लेबाज बन गए हैं। मयंक ने सिर्फ 19 पारियों में यह मुकाम हासिल किया। भारत के लिए सबसे तेज 1000 रन बनाने का रिकॉर्ड विनोद कांबली के नाम है,जिन्होंने इस आंकड़े तक पहुंचने के लिए सिर्फ 14 पारियां खेली थी। 18 पारियों के साथ चेतेश्वर पुजारा इस लिस्ट में दूसरे नंबर पर हैं।

पैट कमिंस ने बनाया ये कीर्तिमान

भारतीय बल्लेबाजी को ध्वस्त करने वाले कंगारू तेज गेंदबाज पैट कमिंस ने पहले टेस्ट की दूसरी पारी में चार विकेट हासिल किए। मौजूदा टेस्ट में कुल सात विकेट हासिल करने के साथ ही कमिंस ने ऑस्ट्रेलिया के लिए टेस्ट क्रिकेट में सबसे तेज 150 विकेट हासिल करने के मामले में संयुक्त रूप से दूसरा स्थान हासिल कर लिया है। हालांकि, वो क्लैरी ग्रिमेट के रिकॉर्ड से पीछे रह गए। इस ऑस्ट्रेलियाई लैग स्पिनर ने 28 मुकाबलों में 150 विकेटों के आंकड़े को पार किया था।

विराट कोहली के नाम दर्ज हो गया ये अनचाहा रिकॉर्ड

विराट कोहली अपने अंतर्राष्ट्रीय करियर में दूसरी बार किसी कैलेंडर साल में कोई भी शतक लगाने से चूक गए। विराट ने 2008 में अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में डेब्यू किया था और 2020 से पहले सिर्फ 2008 ही एक साल था जिसमें विराट के बल्ले से कोई शतक नहीं निकला था। भारतीय कप्तान ने 2020 में तीनों फॉर्मैट को मिलाकर कुल 24 पारियां खेली और वो एक भी शतक लगाने में सफल नहीं हो सके।

टीम इंडिया के बल्लेबाजों ने किया शर्मसार, अपने नाम दर्ज करवा लिया ये अनचाहा रिकॉर्ड

टेस्ट क्रिकेट के 143 सालों के इतिहास में ये दूसरा मौका था जब किसी टीम के सभी खिलाड़ी दोहरे आंकड़े तक पहुंचने में नाकाम रहे। भारत के लिए दूसरी पारी में सर्वाधिक स्कोर मयंक अग्रवाल (9) ने बनाया। इससे पहले इंग्लैंड ने दक्षिण अफ्रीका को 30 रन पर आउट कर दिया था जिसमें हर्बी टेलर ने सबसे ज्यादा (7) रन बनाए थे, हालांकि पारी में 11 रन एक्सट्रा के जरिए आए थे।

88 साल के इतिहास में पहली बार हुआ ऐसा

भारतीय क्रिकेट टीम एडिलेड ओवल मैदान पर ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेले जा रहे डे-नाइट टेस्ट मैच के तीसरे दिन शनिवार को दूसरी पारी में सिर्फ 36 रनों पर ही सिमट गई। भारत के 88 साल के इतिहास में यह उसका सबसे कम स्कोर है।इससे पहले टेस्ट में भारत का सबसे कम स्कोर 42 था जो उसने 20 जनवरी 1974 को लॉर्डस में इंग्लैंड के खिलाफ बनाया था।

टीम इंडिया के बल्लेबाजों ने डूबोई लुटिया, बन गया ये शर्मनाक रिकॉर्ड

भारत ने अपने टेस्ट इतिहास में सबसे खराब रिकॉर्ड अपने नाम दर्ज करवा लिया है। ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ इस मैच से पहले भारतीय टीम के टॉप-6 बल्लेबाज कभी भी 19 रनों के अंदर आउट नहीं हुए थे, लेकिन इस मैच में टीम इंडिया ने दिसंबर 1996 में डरबन में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ 25 रनों पर टॉप-6 विकेट गंवाने के अपने रिकॉर्ड को पीछे छोड़ दिया। अपने टेस्ट इतिहास में सबसे खराब प्रदर्शन के बाद टीम इंडिया इस टेस्ट को गंवाने की कगार पर पहुंच चुकी है।


 
Article