"
X close
X close

IPL 2020: नवदीप सैनी ने बताया, कप्तान विराट कोहली को नेट्स में गेंदबाजी करने से क्या फायदा होता है

By Saurabh Sharma
Sep 01, 2020 • 18:58 PM

रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर के तेज गेंदबाज नवदीप सैनी ने कहा है कि विराट कोहली को उन पर काफी भरोसा है और नेट्स में उनको मैच जैसी परिस्थिति में गेंदबाजी करने से उन्हें फायदा हुआ है। सैनी ने कहा है कि उनकी कोशिश अब अपनी खुद की पहचान बनाने की है।

सैनी ने पिछले साल आईपीएल में शानदार प्रदर्शन करते हुए सभी को प्रभावित किया था। अपने पहले आईपीएल में इस युवा गेंदबाज ने 11 विकेट लिए थे। सैनी के प्रदर्शन से कोहली काफी ज्यादा प्रभावित हुए थे। चूंकि कोहली भारतीय टीम के कप्तान भी हैं तो इससे सैनी को राष्ट्रीय टीम में आने में भी मदद मिली।

Also Read: महान कर्टनी वॉल्श बोले, ये भारतीय खिलाड़ी बन सकता है एंडरसन-ब्रॉड की तरह बड़ा टेस्ट गेंदबाज

सैनी ने दुबई आईएएनएस से कहा, "विराट भईया का मेरे करियर में बड़ा प्रभाव रहा है। मैंने बेंगलोर के साथ पहली बार विराट भईया की कप्तानी में आईपीएल खेला था। वह मेरी बात हर समय सुनते हैं। मैं मैदान पर जो भी करना चाहता हूं वो इसमें मेरा साथ देते हैं।"

हरियाणा के रहने वाले सैनी आसानी से 140 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार छू लेते हैं। उन्होंने वेस्टइंडीज के खिलाफ लॉडरेहिल में टी-20 पदापर्ण किया था।

उन्होंने कहा, "वह हमेशा मेरी रणनीति पर काम करने और मेरा साथ देने को तैयार रहते हैं। वह मुझमें काफी विश्वास करते हैं। नेट्स के दौरान, मैं अपना सर्वश्रेष्ठ देने की कोशिश करता हूं क्योंकि वह एक स्टार बल्लेबाज हैं और उनको गेंदबाजी करने के बाद आप अपने आप को परख सकते हैं। यह और अच्छी बात है कि वह भारतीय टीम में मेरे कप्तान हैं। इसलिए हम दोनों की जुगलबंदी भारतीय टीम के लिए खेलते समय में भी जाहिर होती है। वह मुझे जानते हैं और समझते हैं। उनका मुझ पर काफी विश्वास है।"

सैनी ने बताया, "वह नेट्स में भी जुझारूपन बनाए रखते हैं। वह काफी आक्रामक हैं और पूरे जुनून के साथ बल्लेबाजी करते हैं। इसलिए वो इस तरह से बल्लेबाजी करते हैं जैसे मैच में कर रहे हों। मुझ में भी वो अतिरिक्त ऊर्जा आती है और मैं अपनी योग्यता दिखाने का थोड़ा अधिक प्रयास करता हूं। इसलिए यह मैच जैसी स्थिति बन जाती है।"

भारतीय टेस्ट टीम का गेंदबाजी आक्रमण इस समय दुनिया के सबसे शानदार गेंदबाजी आक्रमणों में से एक है और सैनी ने कहा है कि वह हर सत्र के दौरान इसके लिए अपनी योग्यात में सुधार करने पर ध्यान दे रहे हैं।

उन्होंने कहा, "मैं टेस्ट क्रिकेट खेलने के लिए काफी मेहनत कर रहा हूं। मैंने टेस्ट पदार्पण के लिए कोई समय सीमा तय नहीं की है, लेकिन मैं एक बेहतर तेज गेंदबाज बनने के लिए मेहनत कर रहा हूं। मैं हर अभ्यास सत्र में नई चीजें सीखना चाहता हूं।"

बीसीसीआई द्वारा बनाए गए कोविड-19 नियमों के मुताबिक, यूएई पहुंचने के बाद सभी खिलाड़ियों और सपोर्ट स्टाफ को अनिवार्य छह दिन के क्वारंटीन से गुजरना पड़ा था। क्वारंटीन समय में पहले, तीसरे और छठे दिन आर-टी पीसीआर टेस्ट हुए थे।

सैनी ने कहा, "बायो बबल में खेलना काफी मुश्किल है। लेकिन आईपीएल में सबसे बड़ी चुनौती पूरे विश्व के महान खिलाड़ियों के सामने अच्छा प्रदर्शन करना है। यह काबिलियत दिखाने का अच्छा मंच है। मुझे भविष्य में अच्छा करने की उम्मीद है।"

उन्होंने कहा, "आप अपने कमरे में बंद रहते हो। आप मैदान पर नहीं जा सकते, लेकिन आपको इसमें समझदार बनकर रहना चाहिए। आपको माहौल का ज्यादा से ज्यादा फायदा उठाना चाहिए, कमरे में ही वर्कआउट करना चाहिए और अपने आप को व्यस्त रखना चाहिए।"

सलाइवा बैन पर सैनी ने कहा, "अगर आप गेंद को चमका नहीं पाते हो तो आपको थोड़ा नुकसान होगा। लेकिन अब जबकि हम सलाइवा का इस्तेमाल नहीं कर सकते तो हमें इसके साथ जल्द से जल्द सामंजस्य बैठाना होगा। यूएई में काफी उमस है। यहां मौसम काफी गर्म है। इसलिए जब आप टीम में आते हो तो, यह मायने नहीं रखता कि आप कुछ समय से नहीं खेले हो।"

बेंगलोर ने अभी तक आईपीएल खिताब नहीं जीता है। सैनी ने कहा कि वह टीम को मैच जिताने के लिए अपनी काबिलियत पर काम कर रहे हैं।

उन्होंने कहा, "मैंने पहली बार आईपीएल बेंगलोर के साथ खेला और अच्छा किया। इसके बाद मैंने टी-20 और वनडे में पदार्पण किया। एक अच्छी बात यह है कि मैं तेजी से सीख रहा हूं ताकि मैं अपनी योग्यता में पैनापन ला सकूं और अपनी टीम के लिए मैच विजयी प्रदर्शन कर सकूं।"


क्रिकेट समाचार टेलीग्राम पर भी उपलब्ध है। यहां क्लिक करके आप सब्सक्राइब कर सकते हैं।