X close
X close

Roelof van der Merwe: साउथ अफ्रीका ने छोड़ा तो, नीदरलैंड से खेलकर SA को बाहर कर दिया

रूलोफ़ वैन डे मर्व साउथ अफ्रीकी टीम से भी क्रिकेट खेल चुके हैं। टी-20 वर्ल्ड कप 2022 से अफ्रीकी टीम को बाहर करने में इस पूर्व अफ्रीकी खिलाड़ी का अहम योगदान रहा है।

Prabhat  Sharma
By Prabhat Sharma November 07, 2022 • 16:38 PM

नीदरलैंड्स और साउथ अफ्रीका के बीच 6 नवंबर को मैदान पर रोमांचक मुकाबला खेला गया। कमोजर नीदरलैंड ने बाहूबली साउथ अफ्रीका को 13 रनो से हराकर टूर्नामेंट में बड़ा उलटफेर किया। वहीं इस हार ने साउथ अफ्रीका के सेमीफाइनल खेलने के सपने को चकनाचूर कर दिया। नीदरलैंड को मिली इस जीत में सबसे ज्यादा चर्चा रूलोफ़ वैन डे मर्व (Roelof van der Merwe) की हो रही है।

रूलोफ़ वैन डे ने डेविड मिलर का मैच पलटने वाला कैच लिया जिसे कैच ऑफ़ द टूर्नामेंट बताया जा रहा है। वहीं बैटिंग के दौरान 37 साल के रूलोफ़ वैन डे मर्व असहनीय पीड़ा में दिखे बावजूद इसके उन्होंने खेलना जारी रखा और टीम के लिए एक छोर पर टिके रहे। रूलोफ़ वैन डे मर्व के इस दिल चीर देने वाले वीडियो को खुद आईसीसी ने शेयर किया है।

Trending


रूलोफ़ वैन डे मर्व के इस वीडियो को देखने के बाद आप इस खिलाड़ी के जज्बे को सलाम करने से खुदको नहीं रोक पाएंगे। रूलोफ़ वैन डे मर्व के बारे में ये बात बेहद कम लोग जानते हैं कि इस खिलाड़ी ने इंटरनेशनल क्रिकेट में अपना डेब्यू साउथ अफ्रीका के लिए ही किया था। मतलब वैन डे मर्व पूर्व साउथ अफ्रीकी खिलाड़ी ही हैं।

 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 

A post shared by ICC (@icc)

29 मार्च 2009 को आस्ट्रेलिया के खिलाफ़ साउथ अफ्रीका की टीम से रूलोफ़ वैन डे मर्व ने डेब्यू किया था। इसके अलावा टी-20 वर्ल्ड कप 2009 में भी रूलोफ़ वैन डे मर्व साउथ अफ्रीका की टीम से ही खेले थे। रूलोफ़ वैन डे मर्व ने साउथ अफ्रीका के लिए 26 मुकाबले खेलने के बाद ही संन्यास की घोषणा कर दी थी।

यह भी पढ़ें: दर्शकों को तरसा ऑस्ट्रेलिया, 82507 लोग आ गए IND Vs ZIM का मैच देखने, हैरान कर देंगे आंकड़े

साल 2015 आते-आते रूलोफ़ वैन डे मर्व को नीदरलैंड्स का पासपोर्ट मिला जिसके चलते जुलाई में इस खिलाड़ी ने नीदरलैंड टीम से डेब्यू किया। बता दें कि नीदरलैंड की टीम टी-20 वर्ल्ड कप 2024 के लिए सीधे क्वालीफाई कर चुकी है। साउथ अफ्रीका की हार और पाकिस्तानी की बांग्लादेश के खिलाफ जीत ने उसे ग्रुप 2 टॉप-4 में खत्म करने में मदद की।