X close
X close

दिलीप वेंगसरकर ने कहा, विराट कोहली की रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर IPL 2020 जीतने की प्रबल दावेदार

By Saurabh Sharma
Sep 30, 2020 • 22:45 PM

भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान दिलीप वेंगसरकर ने कहा का विराट कोहली की कप्तानी वाली रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर आईपीएल में अपने 12 साल के सूखे को खत्म कर इस बार खिताब जीत सकती है। वेंगसरकर ने कहा कि बैंगलोर की टीम जिस तरह की उससे वो खिताब की दावेदार है।

बैंगलोर 2009, 2011 और 2016 में आईपीएल फाइनल खेली है लेकिन अभी तक वह ट्रॉफी नहीं उठा पाई है।

Also Read: IPL 2020: शुभमन गिल,इयोन मोर्गन के दम पर केकेआर ने राजस्थान रॉयल्स को दिया 175 रनों का लक्ष्य

वेंगसरकर ने आईएएनएस से कहा, "इस टी-20 प्रारूप में यह कहना मुश्किल है कि कौन प्रबल दावेदार है। लेकिन मैं कहूंगा कि इस बार बैंगलोर जीतेगी, क्योंकि अभी तक उन्होंने एक भी आईपीएल खिताब नहीं जीता है। कोहली, अब्राहम डिविलियर्स, युजवेंद्र चहल अच्छा करेंगे। उनकी टीम में कई अच्छे खिलाड़ी हैं। तेज गेंदबाज नवदीप सैनी पहले मैच में शानदार गेंदबाजी की थी। इसलिए मेरी दिलचस्पी इस बात में है कि वह टूर्नामेंट में आगे किस तरह से खेलते हैं।"

वेंगसरकर ने हालांकि कहा कि इस तेजी से बदलते हुए टी-20 प्रारूप को लेकर कुछ भी पक्के तौर पर नहीं कहा जा सकता।

उन्होंने कहा, "हां बैंगलोर पसंदीदा टीम हो सकती है- खिताब की दावेदारों में से एक.. लेकिन मैं यह नहीं कह सकता की फलानी टीम पक्के तौर पर जीतेगी। लेकिन वो खिताब की दावेदारों में से एक हो सकती है।"

संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) में आईपीएल दूसरी बार हो रहा है। इससे पहले 2014 में आधा आईपीएल भारत में लोकसभा चुनावों के चलते यूएई में खेला गया था।

यूएई की स्थिति को लेकर पूर्व कप्तान ने कहा, "यूएई में मौसम उमस भरा रहता है। लेकिन यह होना ही था क्योंकि इन महीनों में वहां गर्मियां रहती हैं। भारत में आप 10-12 जगह आईपीएल खेलते हैं और वहां आप तीन जगह ही खेल रहे हैं। इसलिए पिचों में टूट-फूट दिख सकती है। यह दिलचस्प होगा।"

उन्होंने कहा, "स्पिनर पिचों की मदद से बाद में बेहद उपयोगी साबित होंगे। मौसम भी बाद में सुधरेगा, क्योंकि अक्टूबर और नवंबर वहां थोड़े रहते हैं, खासकर शाम को। मैं यह इसलिए कह रहा हूं, क्योंकि मैं शारजाह आदि जगह खेल चुका हूं।"

वहां ओस भी एक बड़ा कारण है जिसके कारण कप्तान टॉस जीतने के बाद गेंदबाजी करना पसंद कर रहे हैं।

पूर्व मुख्य चयनकर्ता ने कहा, "ओस फैक्टर काफी अहम है क्योंकि ओस रहती है तो गेंद को ग्रिप करना मुश्किल हो जाता है, खासकर स्पिनरों के लिए। यह होना ही है। लेकिन आपको ओस हर दिन नहीं मिलती, यह किसी-किसी दिन होती है।"

वेंगसरकर जब कहते हैं कि आईपीएल में स्पिनर काफी अहम हो जाएंगे तो क्या वो इसमें ओस को भी शामिल कर रहे हैं?

उन्होंने कहा, "यह निर्भर करता है। हर दिन ओस नहीं हो सकती, लेकिन जैसा मैंने कहा, टूर्नामेंट जैसे-जैसे आगे बढ़ेगा स्पिनर अहम हो जाएंगे।"