इस भारतीय दिग्गज को तीनों फॉर्मेंट में खेलाना चाहिए
X close
X close
टॉप 10 क्रिकेट की ख़बरे

इस भारतीय दिग्गज को तीनों फॉर्मेंट में खेलाना चाहिए, इस पूर्व महान भारतीय दिग्गज ने बताया

by Vishal Bhagat Mar 07, 2018 • 19:38 PM

नई दिल्ली, 7 मार्च | बिशन सिंह बेदी का नाम भारतीय क्रिकेट में बहुत ही सम्मान से लिया जाता है। बेदी उस स्पिन चौकड़ी का हिस्सा थे, जो 70 के दशक में दुनिया के शीर्ष बल्लेबाजों का औसत खराब किए हुए थी। वह बांए हाथ के फिरकी गेंदबाज तो थे ही लेकिन एक कप्तान के रूप में भी उनकी काफी चर्चा होती है। उन्हें 1976 में मंसूर अली खान पटौदी की जगह टीम की कमान सौपी गई।

क्रिकेटर दिनेश कार्तिक की वाइफ दीपिका हैं बहुत खूबसूरत, देखें PICS 

बेदी का कहना है कि टाइगर पटौदी की कप्तानी में खेलते हुए उन्होंने भारतीय टीम को एकजुट करना सीखा।

बिशन सिंह बेदी ने 1993 में बिशन बेदी कोचिंग ट्रस्ट बनाया था जिसके फाउंडिंग चीफ पैट्रन टाइगर पटोदी ही थे। इस ट्रस्ट के 25 साल पूरे होने पर सात मार्च को दिल्ली में एक समारोह भी आयोजित किया गया, जिसे 'ट्रिब्यूट टू टाइगर' नाम दिया गया।

बेदी ने कहा, "पटौदी एक महान कप्तान थे। मैंने उनसे बहुत कुछ सीखा। उन्होंने मुझे सिखाया की टीम को एकजुट कैसे करना है। हिंदुस्तान जैसे मुल्क मंे जहां विभिन्न संस्कृतियां और भाषाएं हैं, पटौदी ने टीम को एकजुट रखा। पटौदी ने टीम के ड्रेसिंग रूप में भारतीयता के जज्बे को पैदा किया।"

बेदी ने कहा, "मैंने पटौदी से यह भी सीखा की मैच जीतना आपका पहला लक्ष्य होना चाहिए। अगर आप मैच नहीं जीत सकते ता फिर आप ड्रॉ के लिए जाएं। पटौती भारतीय टीम को जीत की राह पर लेकर गए।"

क्रिकेटर दिनेश कार्तिक की वाइफ दीपिका हैं बहुत खूबसूरत, देखें PICS 

उन्होंने भारतीय क्रिकेट में पटौदी के योगदान को अतुल्य बताया और भारतीय स्पिन चौकड़ी को निखारने का श्रेय भी उन्हें ही दिया। बेदी ने कहा, "पटौदी पहले ऐसे कप्तान थे जिन्होंने भारतीय स्पिन चौकड़ी को निखारा। वह जानते थे कि हमारे पास विश्व स्तरीय तेज गेंदबाज नहीं है इसलिए स्पिन गेंदबाजों को बेहतर करना होगा।"

'इसके अलावा बिशन सिंह बेदी ने कहा कि रहाणे एक शानदार बल्लेबाज हैं और उन्हें क्रिकेट के तीनों फॉर्मेट में खेलना चाहिए।'