X close
X close

कैच छोड़कर वर्ल्डकप हारने वाली पाकिस्तान, कैच पकड़कर कैसे हार गई

टी-20 वर्ल्ड कप 2022 के फाइनल मुकाबले में इंग्लैंड ने पाकिस्तान को 5 विकेट से हराया। शाहीन अफ़रीदी का कैच पकड़ना इस मैच का टर्निग पॉइंट बना।

Prabhat  Sharma
By Prabhat Sharma November 14, 2022 • 14:44 PM

shaheen afridi catch: पाकिस्तान के लिए टी20 वर्ल्ड कप 2022 की कहानी किसी रोलर-कोस्टर राइड से कम नहीं रही। भारत और फिर जिम्बाब्वे के खिलाफ अपने लगातार 2 मुकाबले हारकर लगभग-लगभग पाकिस्तान की टीम वर्ल्ड कप के सुपर-12 राउंड से ही बाहर हो गई थी। लेकिन, फिर कुदरत का निजाम घटा और पाक टीम ने वर्ल्डकप का फाइनल मुकाबला खेला। फाइनल मुकाबले में पाक टीम को हार मिली और इस हार के बाद एक कैच ने सारी सुर्खियां बटोर लीं।

पिछले साल टी-20 वर्ल्डकप 2021 में पाकिस्तान टीम कैच ना पकड़ने के चलते वर्ल्डकप हारी थी तो इस बार कैच पकड़ने के चलते विश्वकप हार गई। सोशल मीडिया पर फैंस इसी बात को लेकर पाक टीम को ट्रोल भी कर रहे हैं। दरअसल,  13वें ओवर में लॉन्ग ऑफ पर शाहीन अफ़रीदी ने हैरी ब्रूक का एक कमाल का कैच पकड़ा था। लेकिन, इस कैच को लपकने के चक्कर में वो चोटिल हो गए थे।

Trending


15वें ओवर में जब इंग्लैंड को जीतने के लिए 36 गेंदों पर 49 रन की ज़रूरत थी तब शाहीन अफ़रीदी फिर से गेंदबाजी करने के लिए वापस जरूर आए। लेकिन, वो गेंदबाजी कर ना सके। एक गेंद डालते ही वो तकलीफ में दिखे जिसके चलते उन्हें ओवर अधूरा छोड़ मैदान से जाना पड़ा। बस यही वो ओवर था जहां से इंग्लैंड ने पाकिस्तान को पकड़ लिया।

सबसे पहले इंग्लैंड के बल्लेबाजों ने शाहीन अफ़रीदी का ओवर पूरा करने आए इफ्तिखार अहमद को कूटा और उसके बाद मोहम्मद वसीम जूनियर के ओवर में लगभग-लगभग मैच को खत्म ही कर दिया। कुछ पाकिस्तानी फैंस कह रहे हैं कि अगर शाहीन अफ़रीदी अपने बाकी के बचे हुए ओवर पूरे कर लेता तो शायद पाकिस्तान इस मुकाबले को जीत जाती। 

 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 

A post shared by ICC (@icc)

यह भी पढ़ें: 4 खिलाड़ी जिनका संन्यास लेना या ना लेना है बराबर, लिस्ट में 1 नाम चौंकाने वाला

बता दें कि T20 वर्ल्डकप 2021 में पाकिस्तान कैच छोड़ने के चलते हारा था। दरअसल, ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ सेमीफाइनल मुकाबले में हसन अली ने मैथ्यू वेड का कैच ऐसे वक्त छोड़ा जब मैच फंसा हुआ था। इस कैच के छूटते ही मैथ्यू वेड पाकिस्तान टीम पर टूट पड़े और अपनी टीम को जीत दिलाकर ही लौटे।