X close
X close
Indibet

1983 के विश्व कप वो हीरो जिन्होंने बदला देश में क्रिकेट को देखने का नजरिया

1983 विश्व कप को लगभग चार दशक हो चुके हैं, लेकिन भारत और वेस्टइंडीज के बीच ऐतिहासिक फाइनल मैच आज भी भारतीय क्रिकेट प्रशंसकों के दिलों में खास जगह बनाए हुए है। सर विव रिचर्डस को आउट करने के लिए

By IANS News December 23, 2021 • 13:44 PM

1983 विश्व कप को लगभग चार दशक हो चुके हैं, लेकिन भारत और वेस्टइंडीज के बीच ऐतिहासिक फाइनल मैच आज भी भारतीय क्रिकेट प्रशंसकों के दिलों में खास जगह बनाए हुए है।

सर विव रिचर्डस को आउट करने के लिए कपिल देव द्वारा दौड़ लगाकर लिया हुआ कैच, अभी भी उस पीढ़ी को याद दिलाता है। सर विव द्वारा खेली गई यह 33 रन की पारी टीम में सर्वश्रेष्ठ थी, जिसमें भारतीय टीम के गेंदबाज मदद लाल के ओवर में कपिल देव ने कैच लपका था।

Trending


ये जीत कई मायनों में महत्वपूर्ण थी। इस जीत के साथ भारतीय क्रिकेट के लिए एक नए युग की शुरुआत थी। क्लाइव लॉयड की शक्तिशाली वेस्टइंडीज टीम के खिलाफ भारतीय टीम ने पहली पारी में शानदार 54.4 ओवर में दस विकेट खोकर 183 रन बनाए थे और टीम ने वेस्टइंडीज टीम को 184 रन का विशाल स्कोर बनाने का लक्ष्य दिया था। वेस्टइंडीज टीम ने भारतीय गेंदबाजों के आगे घुटने टेक दिए थे, जिसमें टीम ने 52 ओवर में दस विकेट खोकर 140 रन बनाए थे।

तब वेस्टइंडीज को हराना मजाक क्यों नहीं था?

80 के दशक के दौरान, वेस्ट इंडीज एक शक्तिशाली टीम थी और जब भी वे किसी विश्व चैंपियनशिप में भाग लेते थे तो वे खिताब के दावेदार रहते थे। उस दौर में दुनिया के बेहतरीन बल्लेबाज भी वेस्टइंडीज के घातक गेंदबाजों का सामना करने से कतराते थे, जो अपनी बल्लेबाजी से सबका दिल जीत लेते थे। टीम ने 1975 और 1979 के विश्व कप जीते थे।

1983 के विश्व कप में भी इसी तरह के खेल की उम्मीद थी जिसमें विंडीज खिताब की हैट्रिक लगाने पर नजर बनाए हुए थी। लेकिन 25 जून को कपिल देव की अगुवाई वाली भारतीय टीम ने विरोधी टीम को धूल चटाते हुए मैच को जीतकर इतिहास रचा और बाकी दुनिया को यह मानने के लिए मजबूर कर दिया कि एशिया की टीमें भी जीत में अपना स्थान बना सकती हैं।

ऐतिहासिक उपलब्धि के बाद, भारतीय क्रिकेट टीम ने अब तक दो और विश्व खिताब जीते हैं, 2007 विश्व टी20 और 2011 एकदिवसीय विश्व कप, लेकिन कपिल देव की टीम ने इंग्लैंड में जो हासिल किया, वह सब से अलग था।

अब अभिनेता रणवीर सिंह की फिल्म '83' शुक्रवार को रिलीज होने के लिए तैयार है। इस अवसर का जश्न मनाने के लिए आईएएनएस 1983 विश्व कप के नायकों से फिर से मिलने जाता है ताकि पता लगाया जा सके कि वे अब क्या कर रहे हैं।

कपिल देव : वह 1982-87 में भारतीय टीम के कप्तान थे और उन्होंने भारत को ऐतिहासिक विश्व कप जीत दिलाई। उन्होंने उस टूर्नामेंट में खतरनाक दिखने वाले सर विव रिचर्डस को आउट करने के लिए पीछे की ओर दौड़ते हुए एक शानदार कैच लपका था। हरियाणा राज्य में जन्मे कपिल देव ने 1994 तक कई अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट खेले। उन्होंने 131 टेस्ट मैचों में 434 टेस्ट विकेट हासिल किए, जिनका रिकार्ड वेस्ट इंडीज के पूर्व गेंदबाज कोर्टनी वॉल्श ने सन् 2000 में तोड़ा था। बाद में, उन्होंने भारत के कोच के रूप में कार्य किया। अब वह एक टीवी न्यूज चैनल से क्रिकेट विशेषज्ञ के रूप में जुड़े हुए हैं और एक पेशेवर गोल्फर भी हैं। उन्होंने कुछ रेस्तरां में भी निवेश किया हुआ है

सुनील गावस्कर : 83 के विश्व कप में वे अपनी बल्लेबाजी का दमखम नहीं दिखा सके, लेकिन उन्होंने टीम में दो कैच उस पारी में लपके थे। टीम के लिए इस योगदान के लिए वह आज भी याद किए जाते हैं, क्योंकि उन कैचों से टीम ने दो विकेट हासिल किया था जिससे सभी खिलाड़ियों का मनोबल और बढ़ गया था। 1987 में सेवानिवृत्त होने के बाद, उन्होंने मुंबई क्रिकेट संघ के उपाध्यक्ष, बीसीसीआई के अंतरिम अध्यक्ष और आईसीसी क्रिकेट समिति के अध्यक्ष के रूप में कार्य किया है। आज गावस्कर की गिनती दुनिया के बेहतरीन क्रिकेट कमेंटेटरों में होती है। गावस्कर प्रोफेशनल मैनेजमेंट ग्रुप (पीएमजी) के निदेशक भी हैं।

मोहिंदर 'जिमी' अमरनाथ : वह 1983 में विश्व कप विजेता टीम के उप-कप्तान और फाइनल और सेमीफाइनल दोनों में मैन ऑफ द मैच रहे। उन्होंने 12 रन देकर तीन विकेट चटकाए और फाइनल में महत्वपूर्ण 26 रनों का टीम में योगदान भी दिया था। बाद में उन्होंने 90 के दशक की शुरुआत में टेलीविजन पर एक साप्ताहिक क्रिकेट कोचिंग कार्यक्रम 'क्रिकेट विद मोहिंदर अमरनाथ' प्रस्तुत किया। अब गोवा से बाहर स्थित अमरनाथ विभिन्न समाचार चैनलों के लिए एक क्रिकेट विश्लेषक हैं।

कृष्णमाचारी श्रीकांत : इस विस्फोटक सलामी बल्लेबाज ने कम स्कोर वाले 1983 विश्व कप फाइनल में सर्वाधिक 38 रन बनाए और उन्होंने पूरे विश्व कप में कुछ अच्छी पारियां भी खेली थी। उसके बाद उन्होंने भारत ए को कोचिंग दी, भारत के मुख्य चयनकर्ता के रूप में कार्य किया, बाद में एक आईपीएल के मेंटर बने और टीएनपीएल पर टिप्पणी करते हुए भी देखे गए। उन्होंने आईपीएल 2018 के दौरान अखबार के कॉलम भी लिखे और वे वर्तमान में अपना खुद का व्यवसाय भी चला रहे हैं।

बलविंदर संधू : मुंबई में जन्मे तेज गेंदबाज ने सलामी बल्लेबाज गॉर्डन ग्रीनिज को क्लीन बोल्ड किया था, जो एकदिवसीय मैचों में प्रतिष्ठित खिलाड़ी थे। उन्होंने 11 रन भी बनाए और पारी में दो विकेट लिए। उन्होंने 90 के दशक में मुंबई की टीम को कोचिंग दी, लेकिन बाद में तब तक सुर्खियों से बाहर रहे जब तक कि '83' की टीम उन्हें अभिनेताओं से मिलने के लिए बोर्ड पर नहीं ले गई।

मदन लाल : उन्होंने ऐतिहासिक फाइनल में डेसमंड हेन्स, सर विव रिचर्डस और लैरी गोम्स के महत्वपूर्ण विकेट लिए। सेवानिवृत्ति के बाद, उन्होंने कुछ समय के लिए संयुक्त अरब अमीरात की टीम और यहां तक कि भारतीय राष्ट्रीय टीम को भी कोचिंग दी। वर्तमान में, वह टीवी चैनलों पर क्रिकेट विश्लेषक हैं और सिरी फोर्ट स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स, नई दिल्ली में एक क्रिकेट अकादमी चलाते हैं।

सैयद किरमानी : उन्होंने 1983 क्रिकेट विश्व कप में सर्वश्रेष्ठ विकेट कीपर का पुरस्कार जीता और उन्हें भारत के लिए खेलने वाले सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ियों में से एक माना जाता है। उन्होंने 1985 की बॉलीवुड फिल्म 'कभी अजनबी द' में अभिनय किया। उन्हें 2015 कर्नल सीके. नायडू लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड भी मिला था।

यशपाल शर्मा : वह मध्य क्रम के बल्लेबाज थे और उन्होंने 1983 विश्व कप में दूसरे सबसे अधिक रन भी बनाए। संन्यास के बाद वे टीम इंडिया के मुख्य चयनकर्ता बने। 2014 में उन्हें दिल्ली की क्रिकेट सलाहकार समिति का प्रमुख नियुक्त किया गया था। उनका इस साल जुलाई में निधन हो गया था।

कीर्ति आजाद : वह 1983 विश्व कप टीम में एक बल्लेबाज थे और 1986 में क्रिकेट के सभी रूपों से सेवानिवृत्त हुए। इसके बाद, उन्होंने अपने पिता, पूर्व केंद्रीय मंत्री और बिहार के मुख्यमंत्री, भागवत झा आजाद के नक्शेकदम पर चलते हुए राजनीति में प्रवेश किया। उन्होंने लोकसभा सदस्य के रूप में कार्य किया है और हाल ही में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस छोड़ने के बाद तृणमूल कांग्रेस में शामिल हो गए हैं।

रोजर बिन्नी : वह एक ऐसे ऑलराउंडर थे जिन्होंने 1983 क्रिकेट विश्व कप में अपने गेंदबाजी प्रदर्शन से सभी को प्रभावित किया था। उन्होंने उस टूर्नामेंट में सबसे ज्यादा विकेट भी लिए थे। वह वर्तमान में कर्नाटक राज्य क्रिकेट संघ (केएससीए) में एक पदाधिकारी के रूप में कार्यरत हैं।

रवि शास्त्री : वह एक ऑलराउंडर थे। बाद में, वह 2014 में भारतीय राष्ट्रीय क्रिकेट टीम के निदेशक बने और बाद में हाल ही में जब तक राहुल द्रविड़ को पद दिया गया तब तक उन्होंने इसके मुख्य कोच के रूप में कार्य किया।

दिलीप वेंगसरकर : वह एक बल्लेबाज थे और उन्होंने 1987 क्रिकेट विश्व कप के बाद कप्तानी संभाली थी। वह तीन क्रिकेट अकादमी चलाते हैं, दो मुंबई में और एक पुणे में। ये अकादमियां चुनिंदा खिलाड़ियों को मुफ्त में क्रिकेट की ट्रेनिंग देती हैं।

संदीप पाटिल: वह 1983 विश्व कप विजेता टीम में भी एक बल्लेबाज थे। बाद में उन्हें संगीतमय रोमांटिक ड्रामा, 'कभी अजनबी द' (1985) में एक भूमिका की पेशकश की गई, जिसमें सैयद किरमानी और सचिन तेंदुलकर भी थोड़ी भूमिका में थे। उन्होंने टीम इंडिया और 'ए' टीम को कोचिंग दी। उन्होंने कुछ समय के लिए केन्याई टीम के कोच के रूप में भी काम किया और बीसीसीआई में चयनकर्ताओं के अध्यक्ष थे।

सुनील वाल्सन : वह टीम में एकमात्र खिलाड़ी थे जिन्होंने 1983 विश्व कप में एक भी मैच नहीं खेला था। हाल के दिनों में, उन्होंने दिल्ली कैपिटल्स आईपीएल टीम के टीम मैनेजर के रूप में काम किया है।

Also Read: Ashes 2021-22 - England vs Australia Schedule and Squads

पीआर मान सिंह : वह टीम मैनेजर थे और 1983 में विश्व कप जीत का एक अभिन्न अंग थे। वह टीम के साथ इंग्लैंड जाने वाले एकमात्र अधिकारी थे।

IB

Win Big, Make Your Cricket Prediction Now