X close
X close
टॉप 10 क्रिकेट की ख़बरे

यादगार: जब कुंबले ने एक - एक कर पाकिस्तान के 10 विकेट चटकाए थे VIDEO

by Vishal Bhagat Feb 07, 2018 • 14:57 PM

7 फरवरी, नई दिल्ली (CRICKETNMORE)। भारतीय क्रिकेट के आठ दशक से भी पुराने इतिहास में 7 फरवरी का दिन बहुत खास महत्व रखता है। 19 साल पहले आज के ही दिन टीम इंडिया के सबसे सफल गेंदबाज अनिल कुंबले ने पाकिस्तान के खिलाफ टेस्ट पारी में 10 विकेट लेकर इतिहास रचा था। टेस्ट क्रिकेट के इतिहास में वह ये कारनामा करने वाले मात्र दूसरे गेंदबाज बने थे। उनसे पहले सिर्फ इंग्लैंड के महान गेंदबाज जिम लेकर ही एक पारी में 10 विकेट लेने का अद्भुत कारनाम करने में सफल रहे।

क्रिकेटर दिनेश कार्तिक की वाइफ दीपिका हैं बहुत खूबसूरत, देखें PICS

4 से 7 फरवरी 1999 के बीच दिल्ली के फिरोजशाह कोटला स्टेडियम में चिर-प्रतिद्वंदी भारत और पाकिस्तान के बीच में सीरीज का दूसर टेस्ट मैच खेला जा रहा था। चौथे दिन का खेल जारी था और पाकिस्तान के सामनें जीत के लिए 420 रन का विशाल लक्ष्य था। सईद अनवर (69) और शाहिद अफरीदी (41) की सलामी जोड़ी ने 101 की साझेदारी कर पाकिस्तान को शानदार शुरूआत दे दी थी। लेकिन अभी कुंबले का कमाल होना बाकी था।

क्रिकेटर दिनेश कार्तिक की वाइफ दीपिका हैं बहुत खूबसूरत, देखें PICS

कुंबले ने पाकिस्तान की पारी के 25वें ओवर की दूसरी गेंद पर अफरीदी को विकेटकीपर नयन मोंगिया के हाथों कैच करवा कर भारत को पहली सफलता का स्वाद चखाया। इसके बाद विकेटों की पतझड़ शुरू हुई कि जिसे देखकर हर कोई हैरान रह गया।

पाकिस्तान के बल्लेबाज कुंबले की फिरकी में ऐसे फंसे की अगले 98 रन जोड़ने में ही टीम के आठ विकेट गिर गए। पाकिस्तान 198 रन बनाकर अपने 9 विकेट गवा चुका था जब वकार यूनुस बल्लेबाजी करने आए। वसीम अकरम और वकार यूनुस क्रीज पर थे। वकार ने अकरम से कहा था कि हम रन आउट हो जाते है ताकि कुंबले ये खास रिकॉर्ड अपने नाम दर्ज ना कर पाए। लेकिन अकरम ने इससे इंकार किया। दूसरी तरफ भारतीय कप्तान मोहम्मद अजहरूद्दीन ने भी कुंबले को ये कीर्तिमान बनाने में पूरी मदद की।

क्रिकेटर दिनेश कार्तिक की वाइफ दीपिका हैं बहुत खूबसूरत, देखें PICS

अजहर ने जवागल श्रीनाथ समेत अपने दूसरे गेंदबाजों को निर्देश दिए थे कि गेंद ऑफ स्टंप के बहुत बाहर डाले ताकि विकेट नहीं मिले। पाक की पारी के 61वें ओवर की तीसरी गेंद पर कुंबले ने अकरम को लक्ष्मण के हाथों कैच पकड़वाकर अपना 10वां शिकार किया और इतिहास रच दिया। उन्होंने उन्होंने 26.3 ओवरों में 74 रन देकर 10 विकेट लिए थे। जिसकी बदौलत भारत 212 रन से जीत हासिल कर टेस्ट सीरीज ड्रॉ कराने में सफल रहा था।