X close
X close

आकाश चोपड़ा का बड़ा बयान, IPL 2020 में दिल्ली कैपिटल्स के ये 2 खिलाड़ी रहे टीम के लिए सबसे बड़े फ्लॉप

By Shubham Shah
Nov 22, 2020 • 13:53 PM

दिल्ली कैपिटल्स की टीम ने पिछले कुछ सालों में श्रेयस अय्यर की कप्तानी में दमदार प्रदर्शन किया है और आईपीएल 2020 में टीम ने इस लीग के इतिहास में पहली बार फाइनल मुकाबले में खुद को स्थापित किया।

हालांकि मुंबई इंडियंस के खिलाफ हुए फाइनल मुकाबले में इन्हें पांच विकेट से हार मिली लेकिन दिल्ली की मैनेजमेंट अपनी इस युवा टीम के प्रदर्शन को देखकर खुश जरूर होगी।

Also Read: हमारे रिजर्व गेंदबाज भी काफी तेज, आप इस तरह का अटैक नहीं देखते हैं : शमी

लेकिन दिल्ली द्वारा बेमिशाल प्रदर्शन के बावजूद मशहूर भारतीय कमेंटेटर और पूर्व भारतीय बल्लेबाज आकाश चोपड़ा ने दिल्ली कैपिटल्स के उन दो खिलाड़ियों का नाम लिया जिन्होंने 2020 के आईपीएल में टीम को निराश किया। 

आकाश चोपड़ा ने 2020 के आईपीएल में दिल्ली के खेल का विश्लेषण करते हुए कहा कि उनके हिसाब से टीम के युवा विकेटकीपर बल्लेबाज पृथ्वी शॉ और विकेटकीपर बल्लेबाज ऋषभ पंत सबकी उम्मीदों पर खरे नहीं उतरे। 

आकाश ने कहा कि पिछले साल के आईपीएल में उनकी बहुत सराहना हुई थी और तब इन दोनों ने टीम के लिए कई मैच जिताऊ पारियां खेली लेकिन इस साल उनका प्रदर्शन बेहद साधारण रहा।

आकाश चोपड़ा ने अपने यूट्यूब चैनल के माध्यम से बातचीत के दौरान कहा," दिल्ली कैपिटल्स के लिए एक नहीं बल्कि दो चिंता का विषय रही। ये वहीं खिलाड़ी है जिन्हें अपनी सफलता की कीमत खुद चुकानी पड़ रही है क्योंकि पिछली कुछ सालों में उन्होंने जिस तरह का प्रदर्शन किया उससे उनकी तुलना हो रही है। मैं पृथ्वी शॉ और ऋषभ पंत के बारे में बात कर रहा हूँ।"

Delhi Capitals, Mumbai Indians

आकाश चोपड़ा ने कहा कि दिल्ली कैपिटल्स की टीम ने इन दोनों खिलाड़ियों के इर्द-गिर्द अपनी रणनीति बनाई थी कि एक(पृथ्वी शॉ) आकर टीम को तेज तर्रार शुरुआत दिलाएगा और दूसरा(ऋषभ पंत) आकर मैदान पर चौकों और छक्कों की बारिश करेगा लेकिन ऐसा नहीं हो सका।

इसके अलावा आकाश चोपड़ा ने पृथ्वी शॉ के बारे में बात करते हुए कहा कि इस युवा ओपनर ने टूर्नामेंट का आगाज बेहतरीन ढंग से किया था लेकिन फिर उनके प्रदर्शन में गिरावट आई और ये वापसी नहीं कर सके।

गौरतलब है कि ऋषभ पंत ने आईपीएल-13 में 14 मैच खेले जिसमें उनके बल्ले से कुल 343 रन निकलें और दूसरी तरफ पृथ्वी शॉ 13 मैचों में केवल 228 रन बनाने में ही कामयाब हो पाए।