X close
X close
टॉप 10 क्रिकेट की ख़बरे

वेस्टइंडीज के पूर्व तेज गेंदबाज इयान बिशप ने माना, बुमराह पीढ़ी में एक बार मिलने वाली प्रतिभा !

by Vishal Bhagat Dec 04, 2019 • 15:29 PM

4 दिसंबर। वेस्टइंडीज के पूर्व तेज गेंदबाज इयान बिशप का मानना है कि मौजूदा भारतीय तेज गेंदबाजी आक्रमण ने एक अच्छी नींव तैयार की है, लेकिन हाल के समय में वे जिस तरह के प्रदर्शन कर रहे हैं, इसकी उन्होंने कल्पना नहीं की थी। बिशप ने ईएसपीएनक्रिकइंफो को दिए एक साक्षात्कार में कहा कि भारत के अगले स्तर के तेज गेंदबाजों के समूह की नींव दिग्गज कपिल देव जैसे खिलाड़ियों ने रखी थी और मौजूदा कप्तान विराट कोहली ने इसे मजबूत किया है, जो काफी आक्रामक होकर खेलने में विश्वास करते हैं।

52 वर्षीय बिशप ने कहा, "याद रहे कि गेंदबाजों का यह समूह अभी तैयार नहीं हुआ है। लेकिन इसकी बुनियाद पहले ही रखी जा चुकी थी। अगर आप कपिल देव के युग में जाएंगे तो इसके बाद आपको जवागल श्रीनाथ, जहीर खान, मुनाफ पटेल, एस. श्रीसंत जैसे तेज गेंदबाज देखने को मिलेंगे।"

उन्होंने कहा, "अब इसे एक ऐसे कप्तान मजबूती दे रहे हैं जो उन पर भरोसा करते हैं। लेकिन साथ ही यह भी तथ्य है कि आपको जसप्रीत बुमराह जैसी पीढ़ी में एक बार मिलने वाली प्रतिभा मिली है। पीढ़ी में एक बार मिलने वाली प्रतिभा इसलिए, क्योंकि वह खेल के सभी प्रारूपों में शानदार प्रदर्शन करते हैं। मोहम्मद शमी अपने खेल को एक अलग स्तर पर लेकर गए हैं। इशांत शर्मा भी एक अन्य स्तर पर पहुंच चुके हैं।"



वेस्टइंडीज की ओर से 43 टेस्ट मैच खेलने वाले बिशप ने आगे कहा, "मैं यह कभी भविष्यवाणी भी नहीं कर सकता था कि भारतीय तेज गेंदबाज कैरेबियाई (वेस्टइंडीज) आएंगे और वह करेंगे जो वह (वेस्टइंडीज) अन्य टीमों के साथ कई दशक पहले किया करता था।"

उन्होंने साथ ही कहा, "इसका श्रेय गेंदबाजी कोच भरत अरुण, प्रशासकों और कप्तान को जाता है। मैं इतना सुधार नहीं देख पाया था, लेकिन मुझे लगता है कि उन गेंदबाजों में काफी प्रतिभा होती है, जो 90 मील प्रति घंटा या उससे अधिक की स्पीड से गेंदबाजी कर सकते हैं।"

बिशप ने हालांकि भारत की मौजूदा तेज गेंदबाजी आक्रमण की तुलना पहले के वेस्टइंडीज के तेज गेंदबाजों से करने से इंकार कर दिया।

उन्होंने कहा, "वे (भारतीय गेंदबाज) प्रदर्शन ही इतना अच्छा कर रहे हैं कि तुलना होनी ही है। मैं इससे दूर रहना चाहूंगा, क्योंकि मुझे नहीं पता कि आप किस तरह से इसका आंकलन करते हैं।"