X close
X close

IPL 2020: राजस्थान रॉयल्स ने चेन्नई सुपर किंग्स को हराकर किया कमाल, 10 साल बाद किया ये कारनामा

By Saurabh Sharma
Sep 23, 2020 • 00:23 AM

पहले मैच में बेहतरीन शुरुआत करने वाली चेन्नई सुपर किंग्स मंगलवार को आईपीएल के 13वें सीजन के अपने दूसरे मैच में राजस्थान रॉयल्स के हाथों हार गई। राजस्थान का यह इस सीजन का पहला मैच था जिसे उसने 16 रनों से जीता। राजस्थान के बल्लेबाज और गेंदबाज दोनों चले, लेकिन तीन बार की विजेता सीएसके के लिए इस मैच में कुछ भी अच्छा नहीं रहा। राजस्थान ने 20 ओवरों में सात विकेट खोकर 216 रन बनाए। सीएसके 20 ओवरों में छह विकेट के नुकसान पर 200 रन ही बना सकी।

2010 के बाद पहली बार आईपीएल में ऐसा हुआ है जब राजस्थान रॉयल्स की टीम ने पहले बल्लेबाजी करते हुए चेन्नई सुपर किंग्स की टीम को हराया है।  

Also Read: IPL 2020: दिनेश कार्तिक ने कहा, इस वजह से मुंबई इंडियंस के खिलाफ पहला मैच खेलना अच्छा

राजस्थान के मजबूत स्कोर की बुनियाद संजू सैमसन (74 रन, 32 गेंदें, नौ छक्के, एक चौका), स्टीव स्मिथ (69 रन, 47 गेंदें, चार चौके, चार छक्के) ने रखी, जिसे जोफ्रा आर्चर ने आठ गेंदों पर चार छक्कों की मदद से 27 रन बनाकर पूरा किया। आर्चर ने आखिरी ओवर में चार छक्के मारे और राजस्थान ने कुल 30 रन इस ओवर में लिए जिसके कारण वह चेन्नई के सामने 217 रनों का लक्ष्य रख सकी।

विशाल लक्ष्य के सामने सीएसके को जिस तरह की शुरुआत की जरूरत थी वो उसे मिली। पहले मैच में फ्लॉप रहने वाली शेन वाटसन और मुरली विजय की सलामी जोड़ी ने पहले विकेट के लिए 56 रन जोड़े।

पावर प्ले के बाद आए लेग स्पिनर राहुल तेवतिया की गेंद पर वाटसन (33 रन, 21 गेंद, एक चौका, चार छक्के चूक गए और बोल्ड हो गए। इसी के साथ इस साझेदारी का अंत हुआ और सीएसके के पटरी पर से उतरने की शुरुआत। वाटसन के बाद विजय (21 रन, 21 गेंद) को श्रेयस गोपाल ने सैम कुरैन के हाथों कैच कराया।

इन दोनों के जाने के बाद चेन्नई का स्कोर 58 रनों पर दो विकेट हो गया और चेन्नई दबाव में आ गई।

राजस्थान को पहली सफलता दिलाने वाले तेवतिया को सैम कुरैन ने अपने हाथ लिया और दो छक्के सहित छह गेंदों पर 17 रन बनाए। इसी ओवर में एक और बड़ा शॉट खेलने के प्रयास में कुरैन स्टम्पिंग हो गए।

यही हाल अंबाती रायडू की जगह आए ऋतुराज गायकवाड़ का हुआ। वह पहली ही गेंद पर बड़े शॉट के लिए गए और सैमसन ने स्टम्प करने में कोई गलती नहीं की। अब सीएसके का स्कोर नौ ओवरों में 77 रनों पे चार विकेट था। यहां से जीत काफी मुश्किल लग रही थी।

केदार जाधव (22), फाफ डु प्लेसिस (72 रन, 37 गेंद, सात छक्के, 1 चौका), महेंद्र सिंह धोनी (नाबाद 29) ने कोशिश की लेकिन टीम जीत नहीं सकी।

सीएसके के पक्ष में कुछ रहा तो वो था टॉस जिसे जीतकर उसने राजस्थान को बल्लेबाजी के लिए बुलाया। अंडर-19 विश्व कप में बल्ले से धमाल माचने वाले यशस्वी जयसवाल आईपीएल पदार्पण में कुछ खास नहीं कर सके। दीपक चहर की गेंद को मारने के प्रयास में गेंद उनके बल्ले का ऊपरी किनारा लेकर हवा में खड़ी हुई और चहर ने ही कैच पकड़ इस युवा बल्लेबाज को पवेलियन भेजा। आउट होने से पहले जयासवाल ने चहर पर चौका भी लगाया था और इसी चौके के दम पर वह छह रन बना सके।

इसके बाद आए सैमसन ने आते ही अपना आक्रामक अंदाज दिखाया और तेजी से रन बनाए। उन्होंने 19 गेंदों पर अपने 50 रन पूरे किए। यह सैमसन का सबसे तेज अर्धशतक है। स्ट्रेटिजक टाइम आउट तक राजस्थान ने आठ ओवरों में एक विकेट खोकर 96 रन बना लिए थे।

टाइम आउट से लौटने के बाद स्मिथ ने भी बड़े शॉट लगाने शुरू कर दिए। दोनों बल्लेबाजों ने चेन्नई के गेंदबाजों पर जमकर रन बटोरे।

लुंगी नगिदी हालांकि इस साझेदारी को तोड़ने में कामयाब रहे। सैमसन ने नगिदी की गेंद पर बड़ा शॉट खेलना चाहा लेकिन चहर ने उनका कैच पकड़ लिया। राजस्थान के लिए पहला मैच खेल रहे डेविड मिलर खाता नहीं खोल पाए। कोलकाता नाइट राइडर्स से राजस्थान में रॉबिन उथप्पा भी सिर्फ पांच रन बना सके। तेवतिया और रियान पराग भी कुछ खास नहीं कर सके।

19वें ओवर में स्मिथ के आउट होने से राजस्थान के बड़े स्कोर की उम्मीदें धूमिल होती दिखी, लेकिन आर्चर ने उम्मीदों को पूरा किया उन्होंने चार गेंदों पर चार छक्के मारे और मध्य के ओवरों मे जो कमी आई थी उसकी भरपाई कर दी।

चेन्नई के लिए सैम कुरैन ने तीन सफलताएं हासिल कीं। चहर, नगिदी और पीयूष चावला के हाथ एक-एक विकेट आया।