X close
X close
Indibet

IPL 2021 से पहले इन 3 खिलाड़ियो को छोड़ सकती चेन्नई सुपर किंग्स, लिस्ट में है चौंकाने वाले नाम

Shubham Shah
By Shubham Shah
January 08, 2021 • 16:45 PM View: 1959

साल 2020 का आईपीएल चेन्नई सुपर किंग्स के लिए काफी खराब रहा था और इतिहास में  ऐसा पहला बार हुआ था जब सीएसके आईपीएल के प्लेऑफ में जगह नहीं बना पाई। इस दौरान टीम के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी के कई फैसलों पर सवाल उठे थे। पिछले सीजन में टीम में कई खिलाड़ीयों को मौके तो मिले लेकिन उन्होंने अपने प्रदर्शन से सभी को निराश भी किया। 

आईपीएल के 14वें सीजन की शुरुआत अप्रैल-मई के आसपास ही होगी और ऐसे में चेन्नई मैनेजमेंट अपने टीम से कुछ खिलाडियों को बाहर का रास्ता दिखा सकती है और इनमें से कुछ नाम चौंकाने वाले हैं। ऐसे में आइये आज जानते है ऐसे खिलाड़ियों का नाम जिन्हें लचर प्रदर्शन के आधार पर टीम से बाहर जाना पड़ सकता है।

Trending


ड्वेन ब्रावो


वेस्टइंडीज के बेहतरीन ऑलराउंडर ड्वेन ब्रावो पिछले कुछ सालों से फिटेनस की समस्या से जूझ रहे और इस साल दुबई में हुए आईपीएल के 13वें सीजन में यह साफ झलका है। ब्रावो इस दौरान 6 मैचों में केवल 6 विकेट ही चटका पाए और बल्लेबाजी में भी उनके बल्ले से केवल 7 रन ही निकले।
यहां तक कि दिल्ली कैपिटल्स के खिलाफ हुए लीग मैच में ब्रावो को पैरों में इतनी परेशानी हो गई कि वो गेंदबाजी करने नहीं आ पाए और चेन्नई को वह मैच हारना पड़ा। 

आने वाले सालों की बात करे तो चेन्नई की मैनेजमेंट ने इंग्लैंड के सैम कुरेन के रूप में एक बेहतरीन ऑलराउंडर ढूंढ लिया है और कही ना कही वही प्लेइंग इलेवन के लिए पहली पसंद होंगे। 

केदार जाधव

आईपीएल के 13वें सीजन में केदार जाधव के बल्लेबाजी को लेकर काफी आलोचना हुई। उन्होंने इस दौरान 8 मैचों में प्लेइंग इलेवन में शामिल होने का मौका मिला और वो सिर्फ 62 रन ही बना सके। 2019 के आईपीएल सीजन में भी केदार जाधव 14 मैचों में सिर्फ 162 रन ही बना पाए थे। केदार ना सिर्फ बल्लेबाजी में चूक कर रहे है बल्कि फील्डिंग में भी उनके हाथ बेहद ढीले है। और इसमें कोई दो राय नहीं है कि आईपीएल 2021 से केदार को धोनी की टीम बाहर का रास्ता दिखा सकती है।

पियूष चावला

कप्तान धोनी को करियर की शुरुआत से ही स्पिनरों के साथ खासा लगाव रहा है और यही सोचकर उन्होंने टीम में रविंद्र जडेजा, मिशेल सैंटनर, कर्ण शर्मा और हरभजन सिंह सिंह जैसे स्पिनर होने के बावजूद चावला को टीम में शामिल किया। हालांकि हरभजन सिंह ने टूर्नामेंट शुरू होने से पहले अपना नाम वापस ले लिया था और तब पियूष चावला टीम में सबसे दिग्गज गेंदबाज थे।

हालांकि चावला इस दौरान 7 मैचों में केवल 6 विकेट ही निकालने में कामयाब रहे और फील्डिंग में उन्होंने काफी गलतियां की। ऐसे में चेन्नई की मैनेजमेंट पियूष चावला को रिलीज कर उनकी जगह किसी और युवा खिलाड़ी को टीम में शामिल करना चाहेगी।


 
Article