X close
X close

VIDEO: विराट कोहली पर मेहरबान है खुदा, फंस गया था बल्ला फिर भी नहीं हुए आउट

विराट कोहली के साथ एक वक्त ऐसा था जब उनसे किस्मत ने पूरी तरह से मुंह मोड़ लिया था। लेकिन, अब किंग कोहली की तकदीर पूरी तरह से बदल चुकी है।

Prabhat  Sharma
By Prabhat Sharma January 17, 2023 • 11:05 AM

लक एक ऐसा फैक्टर है जो जीवन के हर पहलू खासतौर से क्रिकेट के खेल में काफी ज्यादा महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। अगर लक किसी क्रिकेटर के साथ है तो इस बात की काफी ज्यादा संभावना है कि वो खिलाड़ी कुछ ना कुछ अलग हटकर ही करेगा। पूर्व भारतीय कप्तान विराट कोहली के केस में भी लक ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। 70 शतक पर ढाई साल से ज्यादा टाइम तक अटके विराट कोहली ने पिछले 4 वनडे मुकाबलों में 3 में शतक जड़ा है। विराट कोहली गजब की बैटिंग कर रहे हैं इस बात में शक नहीं लेकिन, किस्मत भी उनका भरपूर साथ दे रही है इससे भी इन्कार नहीं किया जा सकता।

श्रीलंका के खिलाफ खेले गए तीसरे वनडे मुकाबले में भी कुछ ऐसा नजारा देखने को मिला था। 28वें ओवर की दूसरी गेंद पर विराट कोहली का बल्ला क्रीज के बेहद पास जाकर अटक जाता है। विराट क्रीज के अंदर पूरी तरह से पहुंचे नहीं होते हैं ऐसे में विकेटकीपर कुशल मेंडिस के पास उनको रनआउट करने का शानदार मौका रहता है।

Trending


हालांकि, कुशल मेंडिस विराट कोहली को रनआउट नहीं कर पाते। विराट को खुद इस बात पर यकीन नहीं होता है कि आखिर हुआ तो हुआ क्या। बहरहाल, जो भी वो इसे विराट कोहली कि किस्मत कहा जा सकता है। बता दें कि श्रीलंका के खिलाफ तीसरे वनडे में शतक लगाकर विराट कोहली ने अपने वनडे अंतर्राष्ट्रीय शतकों की संख्या को 46 पहुंचा दी है। विराट सचिन से केवल 3 शतक दूर हैं। सचिन तेंदुलकर के नाम वनडे क्रिकेट में 49 शतक हैं।

 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 

A post shared by Sujeet Pandey (@mrsp2611)

यह भी पढ़ें: VIDEO: दर्दनाक हादसे में बदला विराट कोहली का चौका, स्ट्रेचर से ले जाए गए 2 श्रीलंकाई खिलाड़ी

कुल मिलाकर विराट कोहली के इंटरनेशनल मैचों में शतकों की बात करें तो ये संख्या 74 पहुंच चुकी है। श्रीलंका के खिलाफ तीसरे वनडे मुकाबले की बात करें तो टीम इंडिया ने पहले बैटिंग करते हुए 5 विकेट के नुकसान पर 390 रन बनाए थे। विराट कोहली के अलावा शुभमन गिल के ने 116 रनों की पारी निकली। श्रीलंका की टीम 73 रनों पर ऑलआउट हो गई और टीम इंडिया ने वनडे क्रिकेट के इतिहास की सबसे बड़ी जीत (317 रन) दर्ज कर ली।