X close
X close

अगर केएल राहुल स्विच ऑन नहीं हुए तो, सेलेक्टर्स उन्हें स्विच ऑफ कर देंगे- वीरेंद्र सहवाग

मौजूदा विश्व कप में केएल राहुल का फॉर्म चिंता का विषय बना हुआ है। यही कारण है कि दिग्गज और भारतीय फैंस उनकी आलोचना भी कर रहे हैं। वीरेंद्र सहवाग ने भी राहुल को लेकर एक तीखा रिएक्शन दिया है।

Shubham Yadav
By Shubham Yadav November 01, 2022 • 11:31 AM

मौजूदा टी-20 विश्व कप में भारतीय टीम अच्छा खेल रही है लेकिन ओपनर्स का फॉर्म अभी भी चिंता का विषय बना हुआ है। टीम इंडिया के लिए केएल राहुल इस समय सबसे बड़ा सिरदर्द बनते हुए दिख रहे हैं। केएल राहुल अब तक बड़ी पारी खेलने में नाकाम रहे हैं और वो जितनी देर क्रीज़ पर दिखे हैं वो धीमी गति से ही खेलते दिखे हैं जिसके चलते फैंस और पूर्व क्रिकेटर्स उनसे काफी नाखुश हैं।

भारत के पूर्व सलामी बल्लेबाज़ वीरेंद्र सहवाग का भी यही मानना है कि आईपीएल में तो ये चल जाता है लेकिन भारतीय टीम के लिए खेलते हुए ऐसा नहीं चलेगा। वीरू का मानना है कि उन्हें शुरू से ही यानि पावरप्ले से ही गेंदबाज़ों पर अटैक करना होगा। अगर केएल राहुल आईपीएल स्टाइल में ही खेलते रहे और फ्लॉप होते रहे तो सेलेक्टर्स उन्हें बाहर का रास्ता भी दिखा सकते हैं।

Trending


क्रिकबज़्ज पर बोलते हुए वीरेंद्र सहवाग ने कहा, 'देखिए आईपीएल में जैसे मर्जी स्विच ऑफ- स्विच ऑन रहें लेकिन भारतीय टीम के लिए स्विच ऑफ रहे या स्विच ऑन नहीं हुए तो सेलेक्टर्स उन्हें स्विच ऑफ कर देंगे। तो ये उनको ध्यान में रखना है। हाल ही में उन्होंने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ प्रैक्टिस मैच में भी कमाल की बैटिंग की थी, उन्होंने ऐसी बैटिंग की थी कि दूसरा बल्लेबाज़ 2 रन पर था और वो अपना पचास बना चुके थे। उनमें गुण और क्षमता की कोई कमी नहीं है लेकिन उनकी जो लय है ना उसे आक्रामक ही रहना चाहिए। जब उनकी लय पॉज़ीटिव रहती है तो वो एक अलग बल्लेबाज़ हैं वरना वो साधारण नजर आते हैं।'

Also Read: Today Live Match Scorecard

वहीं, वीरू के साथ-साथ आशीष नेहरा ने भी यही कहा कि केेएल राहुल खुद भी चाहते होंगे कि वो बड़े रन बनाएं क्योंकि चोट के बाद 4-5 मुकाबले हो गए हैं और वो एक ही तरीके से आउट भी हो रहे हैं। ऐसे में उन्हें रन बनाने ही होंगे। ज़ाहिर है कि अगर केएल राहुल ऊपर से रन बनाएंगे तो टीम इंडिया एक अलग ही युनिट दिखती है लेकिन अगर वो बाकी बचे वर्ल्ड कप में भी फ्लॉप रहते हैं तो सेलेक्टर्स को दूसरे विकल्पों के बारे में सोचना होगा।