X close
X close

वसीम अकरम ने भारतीय गेंदबाज़ों पर उठाए सवाल, बोले- 'IPL के बाद उनकी पेस...'

वसीम अकरम ने भारतीय गेंदबाज़ों को लेकर एक बात नोटिस की है। दिग्गज गेंदबाज़ का मानना है कि इंडियन गेंदबाज़ों की पेस आईपीएल के बाद कम हो रही है।

Nishant Rawat
By Nishant Rawat November 12, 2022 • 16:45 PM

एडिलेड के मैदान पर दूसरे सेमीफाइनल मैच में इंडिया के गेंदबाज़ ऑस्ट्रेलिया की कंडिशन और पिच पर इंग्लैंड का एक विकेट भी हासिल नहीं कर सके। बड़े मुकाबले में भारतीय गेंदबाज़ों का प्रदर्शन बेहद ही निराशाजनक रहा ऐसे में अब पाकिस्तान के दिग्गज गेंदबाज़ वसीम अकरम ने एक बड़ा सवाल खड़ा किया। दरअसल, वसीम अकरम ने चिंता जताते हुए कहा कि आईपीएल में जो इंडियन गेंदबाज़ 140-145 kph की स्पीड से गेंदबाज़ी करते हैं, उनकी आईपीएल के बाद पेस गिर रही है।

ए स्पोर्ट्स पर बातचीत करते हुए वसीम अकरम ने अपना बयान दिया। उन्होंने कहा, 'मैंने एशिया कप के दौरान भारतीय गेंदबाज़ों के बारे में एक बात नोट की। वह अपनी पेस आईपीएल के बाद गिरा देते हैं। आवेश की बात करते हैं। वह आईपीएल में 145 kph की स्पीड से गेंदबाज़ी कर रहे थे, लेकिन एक सीजन के बाद उनकी पेस चली जाती है। बीसीसीआई को यह जानना होगा कि आखिरी ऐसा क्यों होता है, क्योंकि वह उन्हें 12-13 करोड़ रुपये दे रहे हैं।'

Trending


इसी बीच वसीम अकरम ने बीसीसीआई को एक सुझाव भी दिया। वसीम अकरम बोले, 'मुझे लगता है कि यंग इंडियन प्लेयर के लिए एक कैप होनी चाहिए कि इस खिलाड़ी को इससे ज्यादा पैसे नहीं मिल सकते। ऐसा इसलिए क्योंकि फिर उन्हें पता चलेगा कि आखिरी भूख क्या होती है। अगर मुझे पाकिस्तान में एक महीने में 24 करोड़ मिलेंगे तो मुझे नहीं लगता कि मैं एक बार मेरा काम होने के बाद हार्ड वर्क करूंगा। हम जिस कल्चर से आते हैं हम खुद को ढीला छोड़ देते हैं।'

Also Read: क्रिकेट के दिलचस्प किस्से

बता दें कि काफी हद तक वसीम अकरम की बात ठीक नज़र आती है। आईपीएल में रफ्तार के सौदागर बने हुए सनराइजर्स हैदराबाद के गन गेंदबाज़ उमरान मलिक लगातार ही 150 Kph की स्पीड से बॉल डिलीवर कर रहे थे, लेकिन इंडियन टीम में सेलेक्शन होने के बाद काफी हद तक उमरान की रफ्तार कम हुई। जहां एक तरफ सभी को लग रहा था कि उमरान शोएब अख्तर की सबसे तेज गेंद का रिकॉर्ड तोड़ेंगे वहीं दूसरी तरफ उमरान इंटनेशनल लेवल पर अपनी आईपीएल वाली रफ्तार को भी छूने में नाकाम रहे। ऐसे में बीसीसीआई को ध्यान देने की जरुरत है।