X close
X close
टॉप 10 क्रिकेट की ख़बरे

कलाई के जादूगर यजवेंद्र चहल और कुलदीप यादव के आगे क्यों फेल हो रहे हैं साउथ अफ्रीकी बल्लेबाज, जानिए

by Saurabh Sharma Feb 09, 2018 • 09:48 AM

9 फरवरी,जोहन्सबर्ग (CRICKETNMORE)। भारत के खिलाफ छह वनडे मैचों की सीरीज में साउथ अफ्रीका 3-0 से पिछड़ चुकी है। आईसीसी वर्ल्ड कप 2019 में 15 महीने का समय बाकी है ऐसे में यह नतीजे साउथ अफ्रीका के लिए चिंता की बात है। भारत ने इन तीनों ही मुकाबलों में मेजबान टीम को आसानी से हरा दिया। 

इस सीरीज में अब तक साउथ अफ्रीका के बल्लेबाजों की एक बहुत बड़ी कमजोरी उजागर हुई है। साउथ अफ्रीका के बल्लेबाज कलाई के स्पिन गेंदबाज यजवेंद्र चहल और कुलदीप यादव की गेंदबाजी खेलने में असमर्थ साबित हुए हैं। मेजबान बल्लेबाज दोनों की गेंदों को पढ़ ही नहीं पा रहे हैं और न तो इनसे निपटने की तकनीक ही उनके पास दिखती है।

यह कहना गलत नहीं होगा कि साउथ अफ्रीका की टीम पहले तीन वनडे भारत के इन कलाई के स्पिनरों से हारी है। पहले तीन मैचों में साउथ अफ्रीका के 28 विकेट गिरे, जिसमें 21 चहल औऱ कुलदीप की जोड़ी ने लिए हैं। 

हैरानी की बात यह है कि साउथ अफ्रीका के पास इमरान ताहिर के रुप में एक बेहतरीन कलाई का स्पिन गेंदबाज हैं। ताहिर के अलावा मेजबान टीम ने 6 अन्य कलाई के स्पिन गेंदबाजों के खिलाफ नेट्स में बल्लेबाजी की प्रैक्टिस भी की है। लेकिन ऐसा लग रहा है कि साउथ अफ्रीकी टीम को अपने प्रदर्शन को लेकर जरुरत से ज्यादा आत्मविश्वास और सीरीज से पहले ज्यादा तैयारियां नहीं की गई। 

ये है चहल और कुलदीप के चक्रव्यूह का तोड़

अगर साउथ अफ्रीका को बाकी बचे वनडे मैचों में भारत को टक्कर देनी है, तो उन्हें कलाई के जादूगर चहल और यादव के खिलाफ अपनी बल्लेबाजी तकनीक में सुधार करना होगा। 

मेजबान टीम के बल्लेबाजों को इन दोनों के खिलाफ शुरुआत से ही जवाबी हमला करना होगा। अगर साउथ अफ्रीकी बल्लेबाज शुरुआत में इन दोनों के खिलाफ आक्रामक रवैया अपनाते हैं और उन्हें जमनें का मौका नहीं देते तो उनके पास कुछ रन बनाने का मौका होगा। 

डी विलियर्स की वापसी से बढ़ेगा आत्मविश्वास 

इसके अलावा साउथ अफ्रीका की टीम को एबी डी विलियर्स की वापसी से मौजूदगी मिलेगी। जो चोट के कारण पहले तीन मैच नहीं खेल सके थे। डी विलियर्स लिमिटेड ओवर क्रिकेट के सबसे विस्फोटक बल्लेबाजों में एक हैं और अकेले दम पर अपनी टीम को मैच जीता सकते हैं। डी विलियर्स की मौजूदगी से टीम में एक नई जान आएगी और वह अपनी तकनीक और अनुभव के चलते चहल औऱ यादव को अच्छे तरीके से खेल सकते हैं। अगर वह क्रीज पर कुछ समय रुकेंगे तो दूसरे बल्लेबाजों को रन बनाने में मदद मिलेगी। 

चौथे वनडे मैच में टीम इंडिया साउथ अफ्रीका में अपनी पहली सीरीज जीतने के इरादे से उतरेगी, वहीं मेजबान टीम अपना खोया आत्मविश्वास हासिल करना चाहेगी।