X close
X close
टॉप 10 क्रिकेट की ख़बरे

IPL 2019:  खिताब का सूखा खत्म करने उतरेगी विराट कोहली की आरसीबी,जानें रिकॉर्ड और मौजूदा टीम

by Saurabh Sharma Mar 16, 2019 • 11:47 AM

इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के बीते 11 संस्करणों की शुरुआत में रॉयल चैलेंजर्स बैंगलौर हमेशा खिताब की प्रबल दावेदार के रूप में उतरती है, लेकिन अभी तक उसके हिस्से एक भी खिताब नहीं आया है। टीम तीन बार 2009, 2011 और 2016 में फाइनल में पहुंची है लेकिन खिताब नहीं जीत सकी। इसके अलावा दो बार प्लेऑफ में भी पहुंची लेकिन आगे नहीं जा सकी। 

वर्ल्ड टी-20 में जितने बड़े नाम हैं उनमें से अधिकतर बैंगलौर के साथ रह चुके हैं। चाहे वो क्रिस गेल हों, ब्रेंडन मैक्कलम हों या अब्राहम डी विलियर्स। गेल और मैक्कलम इस सीजन टीम के साथ नहीं। बड़े नामों के बाद भी खिताब बैंगलौर से दूर ही रही है। 

इस टीम की बल्लेबाजी हमेशा से इसकी ताकत रही है। कप्तान विराट कोहली लगातार रन करते हैं और डी विलियर्स उनका हर सीजन बखूबी साथ देते हैं। फिर भी बैंगलौर को अंत में खिताब से दूर ही रहना पड़ता है। इस साल जब बैंगलौर उतरेगी तो पूरी कोशिश करेगी की खितब का सूखा खत्म करे। 

इसके लिए टीम को अपनी गेंदबाजी मजबूत करनी होगी साथ ही बल्लेबाजी और गेंदबाजी में संतुलन बनाने पर भी ध्यान देना होगा। बल्लेबाजी में हालांकि इस बार टीम के पास कोहली और डी विलियर्स को छोड़कर कोई और बड़ा बल्लेबाज नहीं है। टीम ने वेस्टइंडीज के शिमरोन हेटमायेर को 4.20 करोड़ रुपये में और साउथ अफ्रीका के हेनरिक क्लासेन को टीम में शामिल किया है जो असरदार साबित हो सकते हैं।

इन चारों के बाद बल्लेबाजी का जिम्मा हरफनमौला खिलाड़ियों पर होगा। बैंगलौर ने इस सीजन मुंबई के हरफनमौला खिलाड़ी शुभम दुबे का पांच करोड़ रुपये में अपने साथ जोड़ा है। वहीं टीम के पास इंग्लैंड के मोइन अली, कोलिन डी ग्रांडहोम, मार्कस स्टोइनिस के रूप में अच्छे हरफनमौला खिलाड़ी हैं। इन सभी को बल्ले से अहम योगदान देना होगा। 

गेंदबाजी में टीम में अधिकतर वही चेहरे हैं जो बीते सीजन में थे। इनमें सबसे बड़ा नाम लेग स्पिनर युजवेंद्र चहल का है जो सीमित ओवरों में अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में लगातार धूम मचा रहे हैं। चहल ने बीते सीजन भी अच्छा किया था। दूसरे छोर पर साथ देने के लिए चहल के साथ वॉशिंगटन सुंदर और मोइन अली है। दोनों ऑफ स्पिनर हैं और बैंगलौर के लिए फायदेमंद साबित हो सकते हैं। 

तेज गेंदबाजी में भी टीम के पास टिम साउदी जैसा अनुभवी और उमेश यादव, नाथन कल्टर नाइल जैसे प्रतिभाशाली गेंदबाज है। अगर यह तीनों अपनी ख्याति के अनुरूप प्रदर्शन कर पाते हैं बैंगलौर के खिलाफ रन करना मुश्किल होगा। 

मोहम्मद सिराज, नवदीप सैनी और कुलवंत खेजरोलिया के रूप में टीम के पास अच्छे विकल्प हैं। सिराज पहले भी आईपीएल में प्रभावशाली साबित हुए हैं। 

कोहली को टीम में वो संतुलन बनाना होगा जो अभी तक नदारद रहा है। जहां बल्लेबाज और गेंदबाज एक दूसरे का साथ दें और टीम को जीत दिलाएं। 

हमेशा की तरह बैंगलौर इस बार भी मजबूत लग रही है लेकिन लीग का अंत होने के बाद ही असल रूप में पता चलेगा कि टीम अपनी कमियों को पूरा कर पाई या नहीं। 

टीम ने अच्छे परिणाम लाने के लिए कोचिंग स्टाफ में बदलाव भी किए हैं और भारत को 2011 में वर्ल्ड कप दिलाने वाले कोच गैरी कर्स्टन को अपना मुख्य कोच नियुक्त किया है। ऐसे में उम्मीद की जा सकती है कि टीम नए सिरे से शुरुआत कर नई इबारत लिखे। 

टीम : 

टीम : विराट कोहली (कप्तान), अब्राहम डी विलियर्स, मिलिंद कुमार, हिम्मत सिंह, शिमरोन हेटमायेर, पार्थिव पटेल, हेनरिक क्लासेन, मोइन अली, कोलिन डी ग्रांडहोम, मार्कस स्टोइनिस, प्रयास रे बर्मन, अक्षदीप नाथ, गुरकीरत सिंह, शिवम दुबे, युजवेंद्र चहल, वॉशिंगटन सुंदर, पवन नेगी, कुलवंत खेजरोलिया, उमेश यादव, नवदीप सैनी, नाथन कल्टर नाइल, मोहम्मद सिराज, टिम साउदी।