Advertisement
Advertisement

सहयोगी संजय सिंह के डब्ल्यूएफआई प्रमुख चुने जाने के बाद बृज भूषण का दावा, 'दबदबा तो रहेगा'

Brij Bhushan: नई दिल्ली, 21 दिसंबर (आईएएनएस) भारतीय कुश्ती महासंघ (डब्ल्यूएफआई) के चुनावों में संजय सिंह की शानदार जीत के बाद कुश्ती समुदाय में एक बड़े बदलाव की गूंज सुनाई दे रही है।

Advertisement
IANS News
By IANS News December 21, 2023 • 19:40 PM
'Dabdaba to rahega', claims Brij Bhushan after aide Sanjay Singh gets elected as WFI chief
'Dabdaba to rahega', claims Brij Bhushan after aide Sanjay Singh gets elected as WFI chief (Image Source: IANS)
Brij Bhushan:

नई दिल्ली, 21 दिसंबर (आईएएनएस) भारतीय कुश्ती महासंघ (डब्ल्यूएफआई) के चुनावों में संजय सिंह की शानदार जीत के बाद कुश्ती समुदाय में एक बड़े बदलाव की गूंज सुनाई दे रही है।

प्रमुख भारतीय पहलवानों द्वारा यौन उत्पीड़न के आरोपी पूर्व डब्ल्यूएफआई अध्यक्ष बृज भूषण शरण सिंह अपने दावे पर कायम हैं कि "दबदबा तो रहेगा"।

राष्ट्रमंडल खेलों की स्वर्ण पदक विजेता अनीता श्योरण को 47 में से 40 वोटों को हासिलकर संजय सिंह की जीत ने विवाद खड़ा कर दिया। साक्षी मलिक, बजरंग पुनिया और विनेश फोगाट सहित पहलवान, जिन्होंने बृज भूषण का जमकर विरोध किया था, श्योरण के समर्थन में आ गए। उनके प्रयासों के बावजूद, सिंह की जीत ने मौजूदा नेतृत्व के जारी रहने का संकेत दिया।

अपने ऊपर लगे आरोपों से बेपरवाह बृजभूषण ने इस जीत को देश के पहलवानों की जीत बताया। उन्होंने उम्मीद जताई कि विरोध प्रदर्शन के दौरान 11 महीने तक रुकी कुश्ती गतिविधियां अब नए नेतृत्व में फिर से शुरू होंगी।

बृज भूषण ने कहा"एक संदेश दिया गया है। देश का हर अखाड़ा (कुश्ती अकादमी) पटाखे फोड़ रहा है। दबाब था, दबाब रहेगा! मैं जीत का श्रेय देश के पहलवानों और मतदाताओं को देना चाहता हूं। मैं सरकार को धन्यवाद देना चाहता हूं।" साथ ही चुनाव सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर हुए थे... केंद्र यह सुनिश्चित करने के लिए आगे बढ़ा कि चुनाव हो और एक गैर-पक्षपाती व्यक्ति को अध्यक्ष चुना जाए। ''

उन्होंने कहा, "कुश्ती पर 11 महीने का यह 'ग्रहण' खत्म हो गया है। 10 दिनों के भीतर, कुश्ती का परिदृश्य फिर से बदल जाएगा और हम ओलंपिक में वैसा ही प्रदर्शन करेंगे जैसा लोग चाहते हैं।"

घटनाओं के एक आश्चर्यजनक मोड़ में, ओलंपिक पदक विजेता साक्षी मलिक, जो चुनाव परिणाम से निराश दिख रही थीं, ने एक प्रेस वार्ता के दौरान प्रतीकात्मक रूप से अपने कुश्ती जूते एक मेज पर रख दिए और खेल से प्रस्थान की घोषणा की। उनके नाटकीय निकास ने उन पहलवानों के बीच निराशा को रेखांकित किया जिन्होंने एक महिला के महासंघ का नेतृत्व करने की कल्पना की थी।

साक्षी मलिक ने फेडरेशन के शीर्ष पर महिला प्रतिनिधित्व की अनुपस्थिति पर अफसोस जताते हुए कहा, "हमने लड़ाई लड़ी, लेकिन अगर नया अध्यक्ष बृज भूषण का सहयोगी, उनका बिजनेस पार्टनर है, तो मैंने कुश्ती छोड़ दी।"

कुश्ती समुदाय अब न केवल चुनाव के निहितार्थों से जूझ रहा है, बल्कि एक प्रसिद्ध एथलीट के जाने से भी जूझ रहा है, जो भारतीय कुश्ती के भविष्य के लिए एक चुनौतीपूर्ण अध्याय का संकेत है।


Advertisement
Advertisement
Advertisement