X close
X close
टॉप 10 क्रिकेट की ख़बरे

ऑस्ट्रेलियाई कप्तान एरॉन फिंच-टिम पेन कोरोना की वजह से चिंतित,बोले ऐसी स्थिति पहले कभी नहीं देखी

by Saurabh Sharma Mar 18, 2020 • 22:18 PM

सिडनी, 18 मार्च| ऑस्ट्रेलिया की टेस्ट टीम के कप्तान टिम पेन और सीमित ओवरों की टीम के कप्तान एरॉन फिंच ने कोरोनावायरस के कारण फैली स्थिति पर बात की और कहा कि उन्होंने ऐसी स्थिति पहले कभी नहीं देखी। फिंच ने कहा कि मंगलवार को ऑस्ट्रेलियाई सरकार द्वारा जारी यातायात संबंधी सूचना ने उन लोगों के लिए चीजें काफी अनिश्चित बना दी हैं जिन्हें इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) में खेलना है।

आईपीएल की शुरुआत 29 मार्च से होनी थी लेकिन कोरोनावायरस के कारण इसे 15 अप्रैल तक के लिए टाल दिया गया है। फिंच आईपीएल में इस सीजन विराट कोहली की कप्तानी वाली रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर से खेलेंगे। उन्होंने कहा कि इस समय जो स्थिति है उसे देखकर चीजें को लेकर कार्यक्रम बनाना मुश्किल हो गया।

फिंच ने एसईएन टीवी से कहा, "हमने ऐसा पहले कभी नहीं देखा। बीते कुछ घंटों में यातायात संबंधी नियमावली बदली जा चुकी है। यह दो या तीन सप्ताह में बदल भी सकती है। कार्यक्रम तय करना काफी मुश्किल हो रहा है। लेकिन यह इसलिए जरूरी है ताकि सुनिश्चित किया जा सके कि आपके पास जो लोग रह रहे हैं वो सुरक्षित रहें और आप इस बीमारी को फैलने से जितना संभव हो रोक सकें।"

पेन ने कहा कि वह शेफील्ड शील्ड में तस्मानिया के लिए खेलना पसंद करते, लेकिन रद्द का जो कारण है वो क्रिकेट से काफी बड़ा है।

उन्होंने कहा, "मैंने महसूस किया है कि यह मुश्किल है, लेकिन यह ऐसी चीज है जिसे हमें गंभीरता से लेना चाहिए। मैं शेफील्ड शील्ड में तस्मानिया से खेलना पसंद करता और हमारी ऑस्ट्रेलिया की पुरुष टीम भी चैपल-हेडली सीरीज जीतकर खुश होती। निश्चित तौर पर हमारी विश्व विजेता महिला टीम भी दक्षिण अफ्रीका में खेलना पसंद करती।"

उन्होंने कहा, "लेकिन हम ऐसा कर नहीं सकते और इसके लिए कारण बहुत बड़ा है। यह समय सभी क्रिकेटरों के लिए मुश्किल है। मुझे लगता है कि यह समय है जब हमें ब्रेक लेना चाहिए। मुझे पता है कि साल के इस मुकाम पर जब फाइनल्स होने हैं और कई ट्रॉफियां होनी है तब ऐसा होना काफी बुरा है, लेकिन यह हम सभी से बड़ा है, क्रिकेट से भी बड़ा है। हम जल्द से जल्द अपने पसंदीदा खेल को खेलना पसंद करेंगे लेकिन इस समय हमें अपने आप की देखभाल करनी होगी, दूसरों की देखभाल करनी होगी।"