X close
X close
Indibet

IND vs AUS 1st ODI: अगर शिखर धवन ना करते ये गलती, तो भारतीय टीम कर सकती थी मैच में वापसी

Shubham Sharma
By Shubham Sharma
November 27, 2020 • 15:57 PM View: 599

सिडनी में खेले जा रहे पहले वनडे मुकाबले में ऑस्ट्रेलियाई टीम ने भारत के सामने 375 रनों का पहाड़ जैसा लक्ष्य रखा है। ताजा समाचार लिखे जाने तक भारत ने 21.1 ओवर में 150 रन बना लिए हैं, लेकिन विराट कोहली की टीम चार विकेट भी गंवा चुकी है।  क्रीज पर हार्दिक पांड्या और शिखर धवन मौजूद हैं और अब यहां से भारत को जीत हासिल करने के लिए किसी चमत्कार की जरूरत होगी।

जाहिर सी बात है इस समय ऑस्ट्रेलियाई टीम काफी मजबूत स्थिती में नजर आ रही है। कंगारूओं के लिए कप्तान आरोन फिंच और स्टीव स्मिथ ने शानदार शतक जड़े। वहीं सलामी बल्लेबाज डेविड वॉर्नर ने भी अर्द्धशतक लगाया।

Trending


भारतीय टीम इस मैच में शुरूआत से ही पीछे नजर आई। ना तो टीम के खिलाड़ी फील्डिंग में कैच पकड़ पाए और ना ही गेंदबाज कंगारू बल्लेबाजों को तंग कर पाए। इस मैच में खराब फील्डिंग ने टीम पर दबाव और बढ़ा दिया। हालांकि, इस मैच में सबसे अहम मोड़ तब आया, जब ऑस्ट्रेलियाई पारी का  37वां ओवर चल रहा था और ओवर की आखिरी गेंद पर शिखर धवन ने स्टीव स्मिथ का आसान कैच टपका दिया। 

रविंद्र जडेजा की गेंद को लॉन्ग ऑन के ऊपर से खेलने के चक्कर में स्मिथ ने गेंद ऊपर खड़ी कर दी। लॉन्ग ऑन बाउंड्री पर शिखर धवन तैनात थे, लेकिन वो बाउंड्री से कुछ मीटर अंदर खड़े थे, जिसके कारण वह कैच नहीं पकड़ सके। स्मिथ उस वक्त सिर्फ 38 रन पर थे और ऑस्ट्रेलिया का स्कोर 1 विकेट पर 222 रन था।

स्मिथ ने इस जीवनदान का भरपूर फायदा उठाया और शानदार शतक जड़ दिया। स्मिथ ने तेज तर्रार पारी खेलते हुए मात्र 62 गेंदों में अपना शतक पूरा कर लिया। स्मिथ पारी के आखिरी ओवर में 105 रन बनाकर पवेलियन लौटे।

अब अगर पीछे मुड़कर देखा जाए तो कहीं ना कहीं शिखर धवन का वो कैच छोड़ना टीम इंडिया को भारी पड़ गया। अगर उस समय धवन स्मिथ का कैच पकड़ लेते, तो भारत 375 रनों का पीछा ना कर रहा होता और कहीं ना कहीं विराट एंड कंपनी के पास इस मैच को जीतने का बराबर का मौका होता।

हालांकि, धवन बल्ले से शानदार अर्द्धशतकीय पारी खेल कर नाबाद हैं और ऐसे में वो चाहेंगे कि मैच को आखिर तक लेकर जाएं, ताकि भारत मैच में बना रहे। अब ये देखना दिलचस्प होगा कि क्या गब्बर भारत को चमत्कारिक जीत दिला पाते हैं या नहीं।


 
Article