X close
X close

कीरोन पोलार्ड: जुर्म की दुनिया से लेकर क्रिकेट की बादशाहत तक का सफर

वेस्टइंडीज के दिग्गज क्रिकेटर कीरोन पोलार्ड ने कुछ वक्त पहले बड़ा फैसला लेते हुए आईपीएल से संन्यास ले लिया। कीरोन पोलार्ड की लाइफ स्टोरी संघर्षों से भरी हुई रही है।

Prabhat  Sharma
By Prabhat Sharma November 15, 2022 • 15:42 PM

Kieron Pollard Retirement: कीरोन पोलार्ड (kieron pollard) सुर्खियों में हैं। कीरोन पोलार्ड ने कुछ वक्त पहले बड़ा फैसला लेते हुए आईपीएल से संन्यास ले लिया है। मुंबई इंडियंस टीम को 5 बार आईपीएल का खिताब जितवाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले कीरोन पोलार्ड का बचपन बेहद गरीबी और संघर्ष में बीता है। कीरोन पोलार्ड के परिवार में (शादी से पहले) उनकी सिंगल मदर के साथ 2 छोटी बहने हैं। कीरोन पोलार्ड की परवरिश उनकी मां ने अकेले की है। 

हदपार गरीबी में बीता बचपन: कीरोन पोलार्ड का बचपन मानसिक और आर्थिक दोनों तरफ से काफी संघर्ष भरा रहा है। एक इंटरव्यू के दौरान कीरोन पोलार्ड ने कहा था कि क्रिकेट में कामयाबी से पहले उन्होंने हदपार गरीबी के दिन देखे हैं। सुबह का खाना खाते वक्त पोलार्ड और उनके परिवार को ये तक पता नहीं होता था कि उन्हें शाम में रोटी मिलेगी या नहीं।

Trending


अपराध के मामले में सबसे आगे था पोलार्ड का शहर: पोलार्ड की लाइफ में मानसिक संघर्ष का टाइम तब शुरू हुआ जब उनकी मां नौकरी की तलाश में त्रिनिदाद के शहर में शिफ्ट हुई थीं। टकारिगुआ इलाका जहां पोलार्ड का बचपन बीता वो शहर उस वक्त अपराध के मामले में सबसे आगे था। आए दिन हत्या, लूट-मारपीट,ड्रग्स और गांजा जैसे अपराध होना यहां रोजमर्रा की बात थी। 

नहीं हारी पोलार्ड ने हिम्मत: ऐसे हालात में रहने के बावजूद पोलार्ड ने हिम्मत नहीं हारी और मेहनत करने पर अपना पूरा फोकस रखा। पोलार्ड ने एक इंटरव्यू के दौरान कहा था, 'मेरा ध्यान कभी नहीं भटका और मैंने 15 साल की उम्र से ही क्रिकेट खेलने के लिए मेहनत करनी शुरू कर दी थी।'

यह भी पढ़ें: 4 खिलाड़ी जिनका संन्यास लेना या ना लेना है बराबर, लिस्ट में 1 नाम चौंकाने वाला

संन्यास लेते वक्त ये कहा पोलार्ड ने: पोलार्ड ने लिखा, 'ये फैसला करना आसान नहीं था क्योंकि मैं कुछ और साल खेलना चाहता हूं, लेकिन मुंबई इंडियंस के साथ विचार-विमर्श के बाद मैंने अपने आईपीएल करियर को अलविदा कहने का फैसला किया है। मैं समझता हूं कि ये अविश्वसनीय फ्रेंचाइजी जिसने बहुत कुछ हासिल किया है, उसे बदलने की जरूरत है और अगर मैं अब एमआई के लिए नहीं खेलूंगा तो मैं खुद को एमआई के खिलाफ खेलते हुए भी नहीं देख सकता। ये एमआई के लिए भावनात्मक अलविदा नहीं है, हालांकि मैं आईपीएल में बल्लेबाजी कोच की भूमिका निभाने के साथ-साथ एमआई अमीरात के साथ खेलने के लिए सहमत हो गया हूं। मेरे करियर का ये अगला अध्याय वास्तव में रोमांचक है और मुझे खुद को भी खेलने से कोचिंग में बदलने की अनुमति देता है।'