X close
X close
Indibet

जय शाह ने तिरंगा हाथ में लेने से किया इंकार, फैंस बोले- 'पापा से कहना अच्छा नागरिक होने के लिए तिरंगा फहराना जरूरी नहीं'

जय शाह ने भारत पाकिस्तान मुकाबले के दौरान तिरंगा झंडा हाथ में उठाने से इंकार किया था जिसका वीडियो अब सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है।

Nishant Rawat
By Nishant Rawat August 30, 2022 • 16:16 PM

एशिया कप में रविवार को भारत ने पाकिस्तान को महामुकाबले में 5 विकेट से हराकर जीत हासिल की है। यह मैच बेहद ही रोमांचक रहा, लेकिन अंत में हार्दिक पांड्या की ताबड़तोड़ बल्लेबाज़ी के दम पर इंडिया ने बाज़ी मार ली। हालांकि इसके बाद एक ऐसा वीडियो सामने आया जिसके कारण सोशल मीडिया पर बवाल मच चुका है। दरअसल, यह वीडियो बीसीसीआई सचिन जय शाह से जुड़ा है जिसमें वह नेशनल फ्लेग यानि तिरंगे का उठाने से इंकार करते नज़र आ रहे हैं।

जी हां, बीसीसीआई सचिन और देश के गृह मंत्री(अमित शाह) के बेटे जय शाह ने भारत पाकिस्तान मैच के दौरान तिरंगा उठाने से इंकार कर दिया था। यह घटना हार्दिक पांड्या के बैट से निकले निर्णायक सिक्स के बाद घटी। वीडियो में देखा जा सकता है कि एक शख्स इंडियन टीम की जीत के बाद जय शाह को तिरंगा लहराने के लिए इशारा करता है, लेकिन जय शाह झंडे को पकड़ने से इंकार कर देते हैं।

Trending


जय शाह के वायरल वीडियो पर अब सोशल मीडिया पर फैंस का रिएक्शन देखने को मिल रहा है। एक यूजर ने सवाल करते हुए कहा कि क्या जय शाह को तिरंगा उठाने से एलर्जी है। वहीं एक अन्य यूजर ने लिखा, जय शाह को अपने पिता को बताना चाहिए कि नेशनल फ्लेज को फहराना या राष्ट्रगान पर खड़े होना राष्ट्रभक्ति की पहचान नहीं होती। ऐसे ही कई सारे रिएक्शन देखने को मिल रहे हैं।

गौरतलब है कि सोशल मीडिया पर एक गुट ऐसा भी है जो जय शाह का बचाव करता नज़र आ रहा है। जय शाह के सपोर्ट्स का कहना है कि वह एशियन क्रिकेट काउंसिल के मेंबर है जिस वज़ह से वह किसी एक देश का सपोर्ट नहीं कर सकते। इस वज़ह से उन्होंने तिरंगा उठाने से मना कर दिया था।

बता दें कि भारत ने पाकिस्तान को एशिया कप के मुकाबले में हराकर जीत के साथ टूर्नामेंट का आगाज़ किया है, लेकिन इस मुकाबले में भारत और पाकिस्तान दोनों ही टीमों की तरफ से मजबूत खेल देखने को नहीं मिला। हाल ही में इस वज़ह से ही पाकिस्तान के पूर्व तेज गेंदबाज़ शोएब अख्तर ने नाराज़गी जताई है।


Win Big, Make Your Cricket Prediction Now