Advertisement
Advertisement

माइक हेसन ने मुझे फोन किया और कहा- 'पर्स मैनेजमेंट की वजह से नहीं किया रिटेन'

आईपीएल-2021 (IPL-2021) में रॉयल चैलेंजर्स बैंगलौर के तेज गेंदबाज हर्षल पटेल (Harshal Patel) ने अपनी गेंदबाज़ी से सभी का दिल जीता था। बीते सीजन में हर्षल सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज़ थे और पर्पल कैप का सेहरा भी...

Shubham Yadav
By Shubham Yadav January 09, 2022 • 16:08 PM
Cricket Image for माइक हेसन ने मुझे फोन किया और कहा- 'पर्स मैनेजमेंट की वजह से नहीं किया रिटेन'
Cricket Image for माइक हेसन ने मुझे फोन किया और कहा- 'पर्स मैनेजमेंट की वजह से नहीं किया रिटेन' (Image Source: Google)
Advertisement

आईपीएल-2021 (IPL-2021) में रॉयल चैलेंजर्स बैंगलौर के तेज गेंदबाज हर्षल पटेल (Harshal Patel) ने अपनी गेंदबाज़ी से सभी का दिल जीता था। बीते सीजन में हर्षल सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज़ थे और पर्पल कैप का सेहरा भी उनके सिर सजा था। इतना धमाकेदार प्रदर्शन करने के बाद ना सिर्फ पटेल को बल्कि क्रिकेट फैंस को भी उम्मीद थी कि आरसीबी आने वाले सीज़न में उन्हें रिटेन करेगी लेकिन ऐसा नहीं हुआ।

आईपीएल 2021 में खेले गए 15 मैचों में 31 विकेट लेने वाले हर्षल को आरसीबी ने रिटेन नहीं किया जिसके बाद सभी हैरान रह गए लेकिन अगर आप भी जानना चाहते हैं कि आखिर क्यों उन्हें रिटेन नहीं किया गया तो इस सवाल का जवाब खुद हर्षल ने दिया है। हर्षल ने इस बारे में आरसीबी के डायरेक्टर माइक हेसन से भी बात की थी।

Trending


हर्षल ने एक क्रिकेट वेबसाइट से बातचीत के दौरान कहा, “जब मुझे रिटेन नहीं किया गया तो माइक हेसन ने मुझे फोन किया और कहा कि पर्स मैनेजमेंट के चलते उन्हें रिटेन नहीं किया गया। उन्होंने कहा कि वो मुझे निश्चित तौर पर टीम में वापस चाहते हैं। मैं भी उस टीम में दोबारा खेलना चाहता हूं क्योंकि आरसीबी और 2021 सीज़न ने मेरी जिंदगी बदल दी है। हालांकि जहां तक नीलामी की बात है तो मैं भी इंतज़ार कर रहा हूं।"

Also Read: Ashes 2021-22 - England vs Australia Schedule and Squads

हर्षल आगामी सीज़न में दोबारा आरसीबी के लिए खेलेंगे या नहीं, ये तो आने वाले मेगा ऑक्शन में ही पता चल पाएगा लेकिन इतना तो तय है कि इस गेंदबाज़ पर बाकी टीमों की भी निगाहें होंगी ऐसे में वो किसी भी टीम के लिए खेलें लेकिन उनका मालामाल होना तो तय है।

Advertisement

Cricket Scorecard

Advertisement
Advertisement