X close
X close

सूर्यकुमार ने तूफानी शतक में 18 गेंदों में 86 रन मारकर तोड़ा युवराज सिंह,ऐसा करने वाले दुनिया के पहले क्रिकेटर बने

शानदार फॉर्म में चल रहे भारतीय बल्लेबाज सूर्यकुमार यादव (Suryakumar Yadav) ने रविवार (20 नवंबर) को न्यूजीलैंड के खिलाफ दूसरे टी-20 इंटरनेशनल में तूफानी शतक जड़कर इतिहास रच दिया। सूर्यकुमार ने 217.65 की स्ट्राईक रेट से...

Saurabh Sharma
By Saurabh Sharma November 20, 2022 • 15:15 PM

शानदार फॉर्म में चल रहे भारतीय बल्लेबाज सूर्यकुमार यादव (Suryakumar Yadav) ने रविवार (20 नवंबर) को न्यूजीलैंड के खिलाफ दूसरे टी-20 इंटरनेशनल में तूफानी शतक जड़कर इतिहास रच दिया। सूर्यकुमार ने 217.65 की स्ट्राईक रेट से बल्लेबाजी करते हुए 51 गेंदों में नाबाद 111 रनों की पारी खेली। इस दौरान उन्होंने 11 चौके (44 रन) और 7 छक्के (42 रन) जड़े, यानी 86 रन 18 गेंदों में सिर्फ बाउंड्रीज के जरिए बनाए। अपने टी-20 इंटरनेशनल करियक के इस दूसरे शतक के साथ सूर्यकुमार यादव ने कई बड़े रिकॉर्ड अपने नाम कर लिए। 

दुनिया के पहले खिलाड़ी

Trending


सूर्यकुमार दुनिया के पहले खिलाड़ी बन गए हैं, जिन्होंने टी-20 इंटरनेशनल में बतौर ओपनर ना खेलते हुए एक साल में 1000 या उससे ज्यादा रन बनाए हैं। 

तोड़ा बाबर और रिजवान का रिकॉर्ड

टी-20 इंटरनेशनल में एक साल में सबसे ज्यादा बार 50 या उससे ज्यादा रन की पारी खेलने के मामले में सूर्यकुमार दूसरे नंबर पर आ गए हैं। साल 2022 में यह सूर्यकुमार का 11वां पचास प्लस स्कोर है। इस मामले में उन्होंने मोहम्मद रिजवान और बाबर आजम का रिकॉर्ड तोड़ा। रिजवान ने 2022 में और आजम ने 2021 में इस फॉर्मेट में 10 प्लस स्कोर बनाए हैं। 

युवराज सिंह को छोड़ा पीछे

भारत के लिए टी-20 इंटरनेशनल में सबसे ज्यादा छक्के जड़ने वालों खिलाड़ियों की लिस्ट में युवराज सिंह को पछाड़कर सूर्यकुमार यादव चौथे नंबर पर आए गए हैं। इस फॉर्मेट में उनके अब 39 पारियों में 79 छक्के हो गए हैं, वहीं युवराज के नाम 51 पारियों में 74 छक्के दर्ज हैं। इस लिस्ट में रोहित शर्मा, विराट कोहली और केएल राहुल ही अब सूर्या से आगे हैं। 

रोहित की बराबरी की

Also Read: क्रिकेट के अनोखे किस्से

साल 2022 में यह सूर्यकुमार यादव का दूसरा टी-20 इंटरनेशऩल शतक है। वह रोहित शर्मा के बाद दूसरे भारतीय खिलाड़ी बने हैं, जिसने इस फॉर्मेट में एक साल में दो शतक जड़े हैं। भारतीय उपमहाद्वीप के बाद दो शतक जड़ने वाले वह पहले खिलाड़ी हैं।