X close
X close
Indibet

मैंने 'मैं' को कूड़ेदान में डाल दिया और इसे 'हम' में बदल दिया, रवि शास्त्री ने बताई अपनी उपलब्धि 

IANS News
By IANS News
November 09, 2021 • 17:01 PM View: 307

आईसीसी टी-20 वर्ल्ड कप के अंतिम 'सुपर 12' मैच में नामीबिया के खिलाफ नौ विकेट से जीत के बाद भारतीय क्रिकेट टीम के कोच के तौर पर अपनी आखिरी प्रेस कॉन्फ्रेंस में रवि शास्त्री ने कहा कि भारतीय ड्रेसिंग रूम में कोई अहंकार नहीं था। टीम के मुख्य कोच के रूप में उनके कार्यकाल के अंतिम पांच वर्षों के दौरान 'आई' यानी 'मैं' शब्द को कूड़ेदान में डाल दिया गया था। विराट कोहली की अगुवाई वाली टीम टी-20 वर्ल्ड कप में पाकिस्तान और न्यूजीलैंड के साथ अपने दो शुरुआती 'सुपर 12' के मैच हार गई थी और टीम इंडिया सेमीफाइनल में प्रवेश नहीं कर पाई।

शास्त्री का कार्यकाल इस साल भारतीय टेस्ट टीम की उस ऊंचाई के लिए जाना जाएगा, जब उन्होंने अजेय ऑस्ट्रेलिया को उनके घरेलू मैदान पर 2-1 से हराया और पांच मैचों की श्रृंखला में जो रूट की अगुवाई वाली इंग्लैंड के खिलाफ 2-1 की बढ़त हासिल की। आखिरी टेस्ट भारतीय खेमे में बायो-बबल के बाद रद्द करना पड़ा था।

Trending


यह पूछे जाने पर कि क्या उन्होंने और विराट कोहली ने एक ऐसा माहौल बनाने की दिशा में सक्रिय रूप से काम किया, जहां आलोचनाओं के बीच खिलाड़ी एक-दूसरे के लिए खड़े हों, इस पर शास्त्री ने कहा, "हमने सक्रिय रूप से इसके लिए काम किया। हम ड्रेसिंग रूम में विश्वास चाहते थे। यही एकमात्र तरीका है, जिससे आप एक-दूसरे का समर्थन कर सकते हैं। हमें संचार की आवश्यकता थी। हम चाहते थे कि एक-दूसरे पर उंगली न उठाई जाए। हमें 'मैं' शब्द को कूड़ेदान में फेंकने और 'हम' शब्द के साथ सामने आने की जरूरत थी। हमने एक ऐसी संस्कृति बनाई जिसका पालन करते आए हैं और आगे भी पालन किया जाएगा।"

उन्होंने आगे कहा, "विराट के नेतृत्व के साथ, वह खेलों के लिए महान खिलाड़ियों में से एक रहे हैं, खासकर जब आप रेड बॉल (लाल गेंद या टेस्ट मैच) क्रिकेट को देखते हैं, जिस तरह से उसने इसे अपनाया है। यह टीम के अन्य खिलाड़ियों को सूट का पालन करने की अनुमति देता है। क्रेडिट दें, जहां देना चाहिए। यह एक टीम कल्चर है, जिसका पालन करने के लिए टीम पर प्रभाव पड़ा और उन्होंने इसका पूरी तरह से पालन किया। उन्होंने दुनिया भर में निडर होकर क्रिकेट खेला।"

'इस विराट कोहली-रवि शास्त्री युग' में सबसे अच्छी बात क्या थी, इस पर कोच ने जोर देकर कहा कि इसने एक टीम बनाई है, जो खेल के इतिहास में सबसे महान में से एक है।

शास्त्री ने कहा, "इस टीम ने पिछले पांच वर्षों में सभी फॉर्मेट में गुणवत्ता वाली क्रिकेट खेली है। जब आप उस फैशन में प्रदर्शन करते हैं, जहां आप दुनिया भर में जाते हैं, सभी फॉर्मेट में और टीमों को हराते हैं, तो आप जानते हैं कि आप एक महान क्रिकेट टीम का हिस्सा हैं।"

उन्होंने कहा, "मैं एक महान क्रिकेट टीम इंडिया नहीं कह रहा हूं, मैं खेल के इतिहास में महान क्रिकेट टीमों में से एक कह रहा हूं, क्योंकि अगर आप इस तरह के प्रदर्शनों को देखते हैं, तो वे अक्सर नहीं होते हैं। आपके पास ऐसे खिलाड़ियों का एक समूह होना चाहिए जो फिट हों, भूखे (जीत के लिए) हों, निडर हों, उनमें गुण हों, उनमें विश्वास हो और फिर फिट रहते हुए आप उन पांच वर्षों को एक साथ खेल सकें और दुनिया भर में जा सकें और हर जगह प्रदर्शन कर सकें।"

रवि शास्त्री ने भारतीय क्रिकेट टीम की ओर से पिछले कुछ वर्षो में ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड में किए गए शानदार प्रदर्शन पर भी प्रकाश डाला और वहां टीम की जीत को बड़ी जीत बताया।

शास्त्री ने यह भी कहा कि आईसीसी टी-20 वर्ल्ड कप के अलावा, उनकी टीम ने खेल के सबसे छोटे संस्करण या वर्जन में असाधारण रूप से अच्छा खेला और वेस्टइंडीज और श्रीलंका को उनके घरेलू मैदान पर हराया।

Also Read: T20 World Cup 2021 Schedule and Squads

उन्होंने सफेद गेंद यानी वनडे और टी-20 मैचों का जिक्र करते हुए कहा, "आपने वेस्टइंडीज को वेस्टइंडीज में हराया। आपने श्रीलंका को श्रीलंका में हराया, अच्छी टीमें। चारों ओर, यह शानदार रहा है। हां, हम यहां पहले दो मैचों में परिणाम से निराश हैं। चलो सच कहूं तो मैं यहां कोई बहाना बनाने नहीं आया हूं। लेकिन फिर भी, यह लड़कों के लिए सीखने की बात है। उन्हें अगले साल फिर से मौका मिलेगा।"


Win Big, Make Your Cricket Prediction Now

Koo