X close
X close
टॉप 10 क्रिकेट की ख़बरे

IND vs WI: भारत के खिलाफ T20 सीरीज से पहले कार्लोस ब्राथवेट ने मानी हार,दिया ऐसा बयान

by Saurabh Sharma Nov 03, 2018 • 22:09 PM

कोलकाता, 3 नवंबर (CRICKETNMORE)| टी-20 प्रारुप में विश्व विजेता होने के बाद भी वेस्टइंडीज टीम के कप्तान कार्लोस ब्राथवेट ने कहा कि रविवार से शुरू हो रही तीन टी-20 मैचों की सीरीज में भारत जीत का प्रबल दावेदार है। ब्राथवेट ने मैच की पूर्व संध्या पर संवाददाता सम्मेलन में कहा, "भारत घर में किसी भी प्रारुप में शानदार टीम है। खासकर इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) और भारत में टी-20 स्टार होने के कारण, मुझे लगता है कि वह जीत की प्रबल दावेदार हैं।"

भारत ने विंडीज को टेस्ट सीरीज में 2-0 से मात दी तो वहीं पांच मैचों की वनडे सीरीज में 3-1 से हराया। टी-20 में हालांकि भारत विंडीज से आखिरी चार मैचों में नहीं जीता है। ये हैं टीम इंडिया के क्रिकेटर्स की खूबसूरत वाइफ्स,देखें PICS

ब्राथवेट ने कहा, "हम अंडरडॉग के तमगे के आदि हो चुके हैं, लेकिन इस बार हम इसे अलग तरीके से लेंगे, लेकिन यह ऐसी बात नहीं जिस पर हम शर्मिदा हैं।"

वेस्टइंडीज ने वनडे में दो मैचों में शानदार खेल दिखाया था, लेकिन आखिरी के दो मैचों में वह विफल रही थी।

मेहमान टीम के कप्तान ने कहा, "हमारी टीम नई, युवा टीम है। हमारी कैरीबियन प्रीमियर लीग (सीपीएल) के स्टार युवा हैं और अच्छा प्रदर्शन करने को तैयार हैं। इनमें से कई खिलाड़ियों ने वनडे का स्वाद चखा है और मेरा निजी तौर पर मानना है कि हमने वनडे में कई लोगों की उम्मीद से काफी अच्छा किया।"

उन्होंने कहा, "हम टी-20 में इससे भी ज्यादा अच्छा प्रदर्शन कर सभी को हैरान कर देना चाहते हैं और सीरीज का अंत ट्रॉफी के साथ करना चाहते हैं।"

ब्राथवेट से जब महेंद्र सिंह धोनी और विराट कोहली की गैरमौजूदगी के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, "जब यह दोनों नहीं खेलते हैं तो किसी भी टीम के जीतने की ज्यादा संभावना होती है। उनके पास काफी अनुभव और योग्यता है, लेकिन इसके अलावा भी भारतीय टीम एक अच्छी टीम है। हम उन्हें हल्के में नहीं ले रहे हैं क्योंकि उनके पास वो दो खिलाड़ी नहीं हैं। हर टीम को विराट और कोहली की कमी खलेगी।"

ईडन गार्डन्स स्टेडियम में ही विंडीज ने 2016 में टी-20 विश्व कप जीता था। फाइनल में ब्राथवेट ने इंग्लैंड के खिलाफ चार छक्के मार टीम को दूसरी बार विश्व विजेता बनाया था।

उनसे जब इसके बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, "मेरा मानना है कि वह निजी उपलब्धि थी। मेरे लिए यह अच्छा मौका था साथ ही वेस्टइंडीज क्रिकेट के लिए, लेकिन अब वो इतिहास है। अब हमारे पास एक अच्छी टीम है और अब यह हम पर है कि हम हर खिलाड़ी के अंदर से उसका सर्वश्रेष्ठ निकालने का तरीका ढूंढें।"