X close
X close

'क्या सोचा था न्यूज़ीलैंड के बल्लेबाज़ बिना बैट के आएंगे', Declaration पर कामरान अकमल ने बाबर आज़म को घेरा

पाकिस्तान और न्यूज़ीलैंड के बीच पहला टेस्ट मैच ड्रॉ हो गया है लेकिन इस टेस्ट मैच के आखिरी एक घंटे में जो देखने को मिला उसे लेकर बाबर आजम की काफी आलोचना हो रही है।

Shubham Yadav
By Shubham Yadav December 31, 2022 • 18:15 PM

पाकिस्तान और न्यूज़ीलैंड के बीच कराची में खेला गया पहला टेस्ट मैच ड्रॉ पर समाप्त हुआ लेकिन आखिरी दिन के आखिरी घंटे में जो ड्रामा देखने को मिला उसने दुनियाभर के क्रिकेट फैंस और एक्सपर्ट्स के होश उड़ा दिए। एक समय नीरस ड्रॉ की तरफ बढ़ रहे मैच में बाबर आज़म ने रोमांच पैदा करते हुए पाकिस्तान की पारी घोषित कर दी और कीवी टीम के सामने 15 ओवर में 138 रन का टारगेट रखा।

यहां से ये तो साफ था कि कीवी टीम ये मैच नहीं हार सकती लेकिन पाकिस्तान ये मैच जरूर हार सकता था लेकिन खराब रोशनी ने उन्हें बचा लिया और अब इस टेस्ट के खत्म होने के बाद पाकिस्तान के पूर्व विकेटकीपर कामरान अकमल ने भी बाबर आजम की अप्रोच पर सवाल उठाए और कहा कि कराची के नेशनल स्टेडियम में पाकिस्तान और न्यूजीलैंड के बीच हाल ही में खत्म हुए पहले टेस्ट के दौरान प्रशंसक बोर हो गए थे।

Trending


अपने YouTube चैनल पर बात करते हुए, अकमल ने कहा, "प्रशंसक इस टेस्ट मैच के दौरान ऊब गए थे। अगर पाकिस्तान ऐसा ही करना जारी रखता है, तो रेड-बॉल मैचों के लिए प्रशंसकों को स्टेडियम में लाना मुश्किल होगा। ये जरूरी है कि पाकिस्तान देश में टेस्ट क्रिकेट को जीवित रखने के लिए अपना दृष्टिकोण बदले। हमें निडर होकर खेलना होगा।"

आगे बोलते हुए अकमल ने कहा, "क्या पाकिस्तान सोच रहा था कि न्यूजीलैंड के बल्लेबाज़ बिना बल्ले के आएंगे? मुझे समझ में नहीं आता कि उन्होंने उस समय पारी की घोषणा क्यों की और यह पूरी तरह से अनुचित था। इस तरह का निर्णय लेने से उन्हें लगता है कि लोग उनकी बहादुरी दिखाने के लिए उनकी प्रशंसा करेंगे। हालांकि, अगर खराब रोशनी नहीं होती तो न्यूजीलैंड लक्ष्य का पीछा कर लेता।"

Also Read: SA20, 2023 - Squads & Schedule

आपको बता दें कि 15 ओवर में 138 रनों का पीछा करते हुए कीवी टीम ने शानदार शुरुआत की थी और खराब रोशनी के चलते खेल रोके जाने तक 7.3 ओवर में एक विकेट के नुकसान पर 61 रन बना लिए थे। ऐसे में अगर कुछ देर और मैच चलता बाबर आजम को अपने इस फैसले पर पछतावा जरूर होता।