X close
X close

'कोई बात नहीं सर, आगे इससे भी अच्छा करूंगा' ड्रॉप हो-होकर और मज़बूत हो गए हैं कुलदीप; कोच ने किया खुलासा

कुलदीप यादव को बांग्लादेश के खिलाफ दूसरे टेस्ट मैच में नहीं खिलाया गया था जिसके बाद अब उनके कोच का रिएक्शन सामने आया है।

Shubham Yadav
By Shubham Yadav December 31, 2022 • 17:14 PM

भारत ने बांग्लादेश के खिलाफ टेस्ट सीरीज 2-0 से जीत ली लेकिन इस दौरे पर टीम मैनेजमेंट ने एक ऐसा फैसला लिया था जिसने कई प्रशंसकों और पूर्व क्रिकेटर्स को हैरान कर दिया था। कुलदीप यादव ने बांग्लादेश के खिलाफ पहले टेस्ट मैच में मैन ऑफ द मैच का पुरस्कार हासिल किया था लेकिन इसके बावजूद उन्हें दूसरे टेस्ट की प्लेइंग इलेवन से बाहर कर दिया गया था। 

इस स्पिनर ने पहले टेस्ट में आठ विकेट चटकाने के अलावा बल्ले से भी 40 रनों का बहुमूल्य योगदान दिया था लेकिन इसके बावजूद उन्हें बाहर बैठना पड़ा। उस मैच से कुलदीप के ड्रॉप होने पर कुलदीप के कोच कपिल पांडे का रिएक्शन भी सामने आया है। जिस समय ये फैसला लिया गया उस समय कुलदीप के कोच को विश्वास नहीं हो रहा था कि बल्ले और गेंद दोनों से योगदान देने के बावजूद कुलदीप टीम से बाहर हो गया।

Trending


स्पोर्ट्सकीड़ा के साथ बातचीत के दौरान कपिल पांडे ने कहा,"कुलदीप समय के साथ बहुत अधिक धैर्यवान हो गया है। शुरू में, मुझे इस बच्चे के बारे में बहुत चिंता होती थी, जब उसे योग्य मौके नहीं मिलते थे। उसके नाम दो वनडे हैट्रिक हैं, भारत ए के लिए एक हैट्रिक और भारत ए के लिए U19 विश्व कप में भी हैट्रिक है। मैन ऑफ द मैच होने के बावजूद, जब उन्हें दूसरे टेस्ट में ड्रॉप किया गया, तो मुझे नहीं पता था कि उन्हें कैसे दिलासा दूं क्योंकि मैं खुद आंसू बहा रहा था। लेकिन जिस तरह से उन्होंने मुझे धैर्य रखने और विश्वास बनाए रखने के लिए कहा वो ये दर्शाता है कि वो कितना परिपक्व हो गया है।"

Also Read: SA20, 2023 - Squads & Schedule

आगे बोलते हुए पांडे ने कहा, "वो समझ गया है कि उसे प्रक्रिया पर ध्यान केंद्रित करने की जरूरत है और ऐसी किसी चीज के बारे में चिंता करने की जरूरत नहीं है जो उसके नियंत्रण में नहीं है। मुझे यकीन है कि वो अच्छा करेगा और उसने जो धैर्य विकसित किया है, वो उसे मजबूत वापसी करने में मदद करेगा। उन्होंने बल्ले से 40 रन भी बनाए और मैं वास्तव में बहुत खुश था कि वो अपनी हरफनमौला क्षमता दिखाने में सक्षम थे। लेकिन जब उन्हें अगले टेस्ट के लिए बाहर कर दिया गया, तो मुझे वास्तव में बुरा लगा क्योंकि मुझे नहीं पता था कि और क्या करना पड़ेगा। शायद उन्हें उस 40 को सौ में बदलना चाहिए था। कुलदीप ने मुझसे कहा, "कोई बात नहीं सर, अगली बार इससे भी अच्छा करूंगा। उम्मीद है कि निकट भविष्य में उसे और मौके मिलेंगे।"