X close
X close

राहुल तेवतिया ने कहा, वो बाउंड्री वाली गेंद का इंतजार कर रहे थे और फिर उन्होंने टीम के लिए मैच जितवाया

By Shubham Shah
Oct 12, 2020 • 10:52 AM

अपनी तूफानी पारी से सनराइजर्स हैदराबाद के खिलाफ राजस्थान रॉयल्स को जीत दिलाने वाले बल्लेबाज राहुल तेवतिया ने कहा है कि उन्हें ऐसी ही पारी खेलने की भूमिका सौंपी गई थी। तेवतिया (नाबाद 45 रन, 28 गेंद, 4 चौके, 2 छक्के) और रियान पराग (नाबाद 42 रन, 2 चौके, 2 छक्के) ने रविवार को दुबई इंटरनेशनल स्टेडियम में खेले गए मैच में राजस्थान रॉयल्स को सनराइजर्स हैदराबाद के खिलाफ पांच विकेट से रोमांचक जीत दिलाई। तेवतिया को उनकी मैच जिताऊ पारी के लिए मैन ऑफ द मैच का पुरस्कार दिया गया।

तेवतिया ने मैच के बाद कहा, "मुझे यही भूमिका सौंपी गई थी और यह लंबे समय से स्पष्ट थी। मैं पिछले कुछ समय से अच्छी बल्लेबाजी कर रहा था और मैं ऐसा करने को लेकर आश्वस्त था। जब आपको अपनी भूमिका के बारे में पता होता है तो आपके लिए ऐसा करना आसान हो जाता है। विकेटें गिर रही थी, इसलिए मैं एक छोर को संभाले रखना चाहता था और बाउंड्री वाली गेंद का इंजतार कर रहा था। मुझे खुद पर विश्वास था और मैं मैच को अंत तक ले जाना चाहता था।"

Also Read: शिखर धवन और कप्तान अय्यर के शानदार पारियों के दम पर दिल्ली ने मुंबई को दिया 163 रनों का लक्ष्य

राजस्थान ने एक समय अपने पांच विकेट 78 रनों पर ही खो दिए थे। यहां से तेवतिया ने एक बार फिर अपना चमत्कारी रूप दिखाया और इस बार उन्हें साथ मिला रियान पराग का। दोनों ने मिलकर छठे विकेट के लिए 85 रनों की साझेदारी कर एक गेंद पहले राजस्थान को पांच विकेट से जीत दिला दी।

तेवतिया ने कहा, " मैंने रियान से कहा कि विकेट धीमी खेल रही है, इसलिए हमें अंत तक टिके रहने की जरूरत है। अगर हमें अंतिम चार ओवर में 50 रन चाहिए तो भी हम इसे पा सकते हैं। रियान ने मुझसे कहा कि 'मुझे क्या करना है' तो मैंने उनसे कहा कि अच्छी गेंदों का सम्मान करो और सिंगल लो। राशिद के खिलाफ मेरे पास रिवर्स स्वीप लगाने का मौका था, मैंने ऐसा किया।"

बता दें कि तेवतिया ने राशिद खान द्वारा डाले गए 18वें ओवर में लगातार तीन चौके जड़े थे।