X close
X close
टॉप 10 क्रिकेट की ख़बरे

भारत की दूसरी पारी में रोहित और पुजारा की धमाकेदार बल्लेबाजी, भारतीय टीम को 246 रनों की बढ़त

by Vishal Bhagat Oct 05, 2019 • 15:10 PM

5 अक्टूबर। रोहित शर्मा ने एक बार फिर अपने बल्ले का कमाल दिखाते हुए यहां एसीए-वीसीए स्टेडियम में दक्षिण अफ्रीका के साथ खेले जा रहे पहले टेस्ट मैच के चौथे दिन शनिवार को भारत को मजबूत स्थिति में ला खड़ा किया। रोहित को चेतेश्वर पुजारा का अच्छा साथ मिला है और इन दोनों ने मैच के चौथे दिन के दूसरे सत्र का खेल खत्म होने तक दूसरी पारी में भारत का स्कोर एक विकेट के नुकसान पर 175 तक पहुंचा दिया। भारत को अब तक 246 रनों की बढ़त मिल चुकी है।

रोहित 84 रन और पुजारा 75 रन बनाकर खेल रहे हैं। दोनों के बीच 154 रनों की साझेदारी हो चुकी है। इसी के साथ भारत ने दक्षिण अफ्रीका पर अपनी बढ़त 246 रनों की कर ली। भारत ने अपनी पहली पार सात विकेट के नुकसान पर 502 रनों पर घोषित कर दी थी। दक्षिण अफ्रीका ने संघर्ष किया और अपनी पहली पारी में 431 रन बनाए थे। भारत दूसरी पारी में 71 रनों की बढ़त के साथ उतरा था।

उसे हालांकि अच्छी शुरुआत नहीं मिली। पहली पारी में दोहरा शतक जमाने वाले सलामी बल्लेबाज मयंक अग्रवाल (7) को 21 के कुल स्कोर पर केशव महाराज ने पवेलियन भेज दिया।

इसके बाद रोहित और पुजारा ने टीम को दूसरा झटका नहीं लगने दिया और दक्षिण अफ्रीकी गेंदबाजों को परेशान किया। पहले सत्र में भारत ने एक विकेट के नुकसान पर 35 रन बनाए थे।

दूसरे सत्र में रोहित और पुजारा ने अपने-अपने अर्धशतक पूरे किए। रोहित ने अभी तक अपनी पारी में 118 गेंदों का सामना किया और सात चौके तथा चार छक्के लगाए हैं। पुजारा 139 गेंदें खेल चुके हैं और 13 चौकों के अलावा एक चौका लगा चुके हैं।

इससे पहले, दक्षिण अफ्रीका ने दिन की शुरुआत आठ विकेट के नुकसान पर 385 रनों के साथ की थी। मेहमान टीम के निचले क्रम में भारतीय गेंदबाजों के लिए मुश्किलें पैदा कीं। खासकर 33 रन बनाकर नाबाद लौटने वाले सेनुरान मुथुसामी ने। केशव महाराज (9) को अश्विन ने अपना छठा शिकार बनाया था, लेकिन मुथुसामी ने दूसरे छोर से संघर्ष जारी रखा।

रविचंद्रन अश्विन ने दूसरे छोर से कागिसो रबाडा (15) के संघर्ष को खत्म कर दक्षिण अफ्रीकी पारी का अंत किया।

मेहमान टीम ने शुरू से लेकर अंत तक विशाल स्कोर के सामने अच्छी प्रतिस्पर्धा दिखाई। उसे यहां तक पहुंचाने में डीन एल्गर (160), क्विंटन डी कॉक (111) और कप्तान फाफ डु प्लेसिस (55) का भी अहम योगदान रहा।

भारत के लिए अश्विन ने सात विकेट लिए। रवींद्र जडेजा ने दो और ईशांत शर्मा ने एक विकेट हासिल किया।