X close
X close

5 क्रिकेटर जो शारीरिक अपंगता के बावजूद बने महान, कोई बहरा किसी की उंगली गायब

इन 5 क्रिकेटरों की जिंदादिली को जानने के बाद आप भी सलाम करेंगे। इन खिलाड़ियों ने इतनी दिक्कत, समस्याओं के बावजूद वर्ल्ड क्रिकेट में जो कुछ भी हासिल किया वो कमाल है।

Prabhat  Sharma
By Prabhat Sharma November 01, 2022 • 12:00 PM

क्रिकेट एक ऐसा खेला है जहां छोटी सी इंजरी भी क्रिकेटर का करियर खत्म कर देती है। लेकिन, अगर हम आप से कहें कि वर्ल्ड क्रिकेट में कुछ ऐसे भी क्रिकेटर हैं जिन्होंने शारीरिक अपंगता होने के बावजूद ना केवल क्रिकेट खेला बल्कि अपना नाम भी बनाया। इस आर्टिकल में शामिल 1 भारतीय क्रिकेटर के बारे में जानकर आप हैरान होंगे।

वॉशिंगटन सुंदर: वर्ल्ड क्रिकेट के राइजिंग स्टार वॉशिंगटन सुंदर ने कम उम्र में अपने हरफनमौला खेल से काफी प्रभावित किया है। महज 17 साल की उम्र में इंटरनेशल क्रिकेट में डेब्यू करने वाले वॉशिंगटन सुंदर के बारे में एक बात बेहद कम लोग जानते हैं। वॉशिंगटन सुंदर एक कान से बहरे हैं। वॉशिंगटन सुंदर को ये बीमारी बचपन से ही है जिसका कोई इलाज नहीं है।

Trending


मैथ्यू वेड: ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट में बतौर फिनिशर कोहराम मचाने वाला ये खिलाड़ी नेत्रहीनता यानी कलर ब्लाइंडनेस की समस्या से पीड़ित है। मैथ्यू वेड रंग पहचानने में अक्षम हैं। डे-नाइट टेस्ट मैच में पिंक बॉल से खेलने में उन्हें खासा दिक्कतों का सामना करते हुए देखा गया है। इसके अलावा 16 साल की उम्र में ये खिलाड़ी कैंसर से भी पीड़ित रह चुका है।

शोएब अख्तर: 6 साल की उम्र तक वर्ल्ड क्रिकेट में सबसे तेज गेंद फेंकने वाले शोएब अख्तर अपने पैरों पर नहीं चल पाते थे। शोएब अख्तर के घुटने खराब थे और वो रेंग-रेंग के चला करते थे। शोएब अख्तर की ये तकलीफ पूरे क्रिकेटिंग करियर के दौरान उनके साथ रही। शोएब अख्तर के घुटनों में पानी भरा होता है।

पैट कमिंस: मीडिल फिंगर तेज गेंदबाजों के लिए आउट स्विंग पैदा करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। लेकिन, दुर्भाग्यवश पैट कमिंस की मीडिल फिंगर 3 साल की उम्र में कट गई थी। उनकी बहन ने गलती से दरवाजा बंद कर दिया जिसके चलते उनकी उंगली 1 सेंटीमीटर कट गई।

यह भी पढ़ें: 5 क्रिकेटर जो टीम पर बोझ बनने की जगह करियर के टॉप पर हुए रिटायर

मार्टिल गप्टिल: न्यूजीलैंड का ये खिलाड़ी टी-20 क्रिकेट के दिग्गजों में शुमार है। ये बाद बेहद कम लोग जानते हैं कि इस खिलाड़ी के बांए पैर में केवल 2 उंगली हैं। स्कूल में उनके साथ ये हादसा हुआ डॉक्टरों ने उनकी उंगली जोड़ने की काफी कोशिश की लेकिन, वो ऐसा करने में कामयाब ना हो सके।