X close
X close
Indibet

IND vs AUS : 'अलग-अलग लोगों के लिए अलग-अलग नियम', सुनील गावस्कर ने बोला विराट कोहली पर हमला

Shubham Sharma
By Shubham Sharma
December 24, 2020 • 15:24 PM View: 604

टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ पहला टेस्ट मैच खेलने के बाद भारत लौट चुके हैं और ऐसे में दौरे को बीच में छोड़कर उनके घर लौटने के फैसले ने एक नए विवाद को जन्म दे दिया है। पूर्व भारतीय कप्तान सुनील गावस्कर ने कप्तान विराट कोहली के इस फैसले को लेकर बड़ा हमला बोला है। 

गावस्कर ने भारतीय ऑफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन और टी नटराजन का उदाहरण देते हुए विराट कोहली पर निशाना साधा है। उनका मानना है कि भारतीय टीम में अलग-अलग खिलाड़ियों के लिए अलग-अलग नियम हैं। उनका मानना है कि भारतीय टीम के धुरंधर स्पिनर रविचंद्रन अश्विन टीम में अपनी जगह बनाने के लिए जूझते रहे हैं। इसकी वजह उनकी 'स्पष्टवादिता' है। साथ ही उन्होंने कहा कि टी. नटराजन भी इसी तरह अलग नियमों का शिकार बने हैं।

Trending


गावस्कर ने लिखा, "बहुत लंबे समय तक अश्विन को उनकी स्पष्टवादिता का खामियाजा भुगतना पड़ा। उन्हें अच्छे प्रदर्शन के बावजूद टीम से बाहर होना पड़ा। आप उनकी काबिलियत पर संदेह नहीं कर सकते हैं। अगर अश्विन मीटिंग में किसी बात से सहमत नहीं हैं तो वो अपने विचार सामने रखने से जरा भी संकोच नहीं करते हैं।” Aus Vs Ind:'विराट कोहली से इतनी जलन', भारतीय कप्तान पर तंज कसना सुनील गावस्कर को पड़ा मंहगा; हुए ट्रोल

इस महान बल्लेबाज ने आगे लिखते हुए कहा, “कोई भी अन्य देश एक ऐसे गेंदबाज को अपनी टीम में जरूर शामिल करेगा, जिसके नाम पर 350 से अधिक टेस्ट विकेट दर्ज हों। अगर अश्विन एक मैच में विकेट नहीं लेते हैं तो उन्हें अगले मैच में दरकिनार कर दिया जाता है। मुझे लगता है बाकी खिलाड़ियों के लिए अलग और अश्विन के लिए अलग नियम हैं।”

इसके अलावा गावस्कर ने नटराजन का भी उदाहरण दिया और कोहली को निशाना बनाया। ऑस्ट्रेलिया दौरे पर शानदार प्रदर्ऩशन करने वाले तेज गेंदबाज टी. नटराजन के बारे में बात करते हुए गावस्कर ने कहा, “नटराजन यूएई में आईपीएल खेलने के बाद सीधे ऑस्ट्रेलिया पहुंचे थे। नटराजन ने अभी तक अपनी बेटी को नहीं देखा है और भले ही वो टेस्ट टीम का हिस्सा नहीं हैं, लेकिन वो एक नेट गेंदबाज के रूप में भारतीय टीम के साथ हैं। दूसरी तरफ, पहला टेस्ट मैच खेलने के बाद विराट कोहली भारत में अपने बच्चे के जन्म के लिए ऑस्ट्रेलिया छोड़कर चले गए हैं।”

 


 
Article